बीजिंग, एएनआइ। चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। चीनी सेना ने वियतनाम के जवानों पर पत्थरबाजी की है। ये घटना ठीक वैसी ही है, जैसी घटना चीन ने साल 2020 में गलवान घाटी में भारतीय सेना के जवानों के साथ की थी। साल 2020 में चीनी सैनिकों ने भारतीय जवानों पर गलवन घाटी में पत्थर, डंडों और अन्य तेज धारदार हथियारों से हमला कर दिया था। ठीक उसी रणनीति के साथ चीन ने वियतनाम सैनिकों पर हमला किया है।

चीनी सैनिकों के हमले का एक वीडियो भी सामने आया है। इस वीडियो को ट्विटर पर पोस्ट किया गया है। वीडियो में चीनी सैनिक वियतनामी निर्माण श्रमिकों पर पत्थर फेंकते हुए और निहत्थों को गाली देते हुए दिख रहे हैं। पत्थरबाजी की ये घटना चीन की सीमा से लगे उत्तरी वियतनाम के हा गियांग प्रांत की है।

इससे पहले, वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर बढ़ते तनाव के बीच 6 जनवरी 2020 को भारतीय और चीनी सैन्य कमांडरों के साथ बातचीत हुई थी। चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिकों से पैट्रोलिंग प्वाइंट 14 के पास गलवन घाटी में पीछे हटने की उम्मीद की जा रही थी। तभी भारतीय और चीनी सैनिकों के झड़प हुई थी, जिसमें देश के 20 जवानों की मौत हो गई थी।

बता दें कि चीनी पक्ष ने भारतीय प्रतिनिधिमंडल के साथ बहस शुरू कर दी थी। बाद में चीनी सैनिकों ने घातक हमले के इरादे से पत्थर, लाठी और धारदार हथियारों से हमला शुरू कर दिया था। इस घटना से एक महीने पहले ही भारत ने पैंगोंग त्सो के उत्तर में एक महत्वपूर्ण सड़क निर्माण परियोजना का उद्घाटन किया था। इस परियोजना के उद्घाटन से चीन चिढ़ गया था, जबकि ये प्रोजेक्ट चीनी सीमा से दूर और भारतीय इलाके में था। चीनी सेना अब उसी रणनीति का सहारा ले रही है।

Edited By: Manish Negi