हांगकांग, एएफपी। हांगकांग में लोकतंत्र समर्थकों ने अपने प्रदर्शन की रणनीति बदल दी है। वे अब पुलिस-प्रशासन से सीधे भिड़ने के बजाय ‘हिट एंड रन’ (वार करो और भाग जाओ) की तरह प्रदर्शन को अंजाम दे रहे हैं। हालांकि, हांगकांग की प्रमुख लैम ने चेतावनी दी है कि प्रदर्शनकारियों पर अब कोई रियायत नहीं बरती जाएगी। बता दें कि लोकतंत्र समर्थकों का आंदोलन तीन महीनों से लगातार जारी है। शनिवार को अनुमति न मिलने के बाद भी लोकतंत्र समर्थक ताई पो जिले में एकत्रित हुए। पुलिस जैसे ही यहां पहुंची, प्रदर्शनकारी पीछे हट गए और छोटे-छोटे समूहों में बंटकर शहर के अलग-अलग हिस्सों में चले गए। इस दौरान प्रदर्शनकारी नारेबाजी भी कर रहे थे। इसके बाद प्रदर्शनकारियों का एक समूह हेलमेट और गैस मास्क से लैस होकर ताईवाई जिले में पहुंचा। उन्होंने यहां सड़क किनारे की रेलिंग तोड़ दीं।

अलग-अलग जगहों पर प्रदर्शन
प्रदर्शन में शामिल एक 17 वर्षीय छात्र ने बताया, ‘अब पुलिस-प्रशासन से सीधे टकराने के बजाय हम छोटे-छोटे समूहों में अलग-अलग जगहों पर प्रदर्शन कर रहे हैं और पुलिस के पहुंचने से पहले वहां से चले जाते हैं। उनसे सीधे भिड़ने के बजाय हम उनके लिए और ज्यादा मुश्किलें पैदा कर रहे हैं।’ इसके बाद प्रदर्शनकारियों ने शहर के क्रॉस हार्बर टनल में यातायात को ठप कर दिया। सिम सा सूसी जिले में भी प्रदर्शनकारियों का पुलिस से सामना हुआ, जहां पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे।

हवाई अड्डे पर दूसरे दिन भी जारी रहा प्रदर्शन
आंदोलन को लेकर अंतरराष्ट्रीय समर्थन हासिल करने के उद्देश्य से प्रदर्शनकारियों ने शुक्रवार को हांगकांग के अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर प्रदर्शन किया था। प्रदर्शनकारियों ने यहां तीन दिवसीय आंदोलन का आह्वान किया है। इस कड़ी में उन्होंने दूसरे दिन शनिवार को भी अपना प्रदर्शन जारी रखा।

परिवार के साथ हो रहे शामिल
आंदोलन में प्रदर्शनकारी अपने परिवार और बच्चों के साथ भी शामिल हो रहे हैं। उनका कहना है कि इससे आंदोलन का महत्व बच्चों को भी समझ में आएगा। आंदोलन में फाई लाई नाम की एक महिला अपनी तीन वर्षीय भतीजी के साथ शामिल हुई। उसने बताया कि हांगकांग का भविष्य इन्हीं बच्चों पर निर्भर है।

पी फॉर प्रोटेस्ट, डी फॉर डेमोंस्ट्रेशन
हांगकांग के लोगों ने अंग्रेजी की वर्णमाला में पी फॉर प्रोटेस्ट (विरोध) और डी फॉर डेमोंस्ट्रेशन (प्रदर्शन) प्रसारित करना शुरू कर दिया है। लोकतंत्र समर्थकों का कहना है कि वे अपना प्रदर्शन तब तक जारी रखेंगे जब तक लैम उनकी मांगे नहीं मान लेतीं। उनकी मांगों में शहर के प्रमुख का प्रत्यक्ष चुनाव और पुलिस ¨हसा की जांच शामिल है।

क्यों शुरू हुआ था आंदोलन?
हांगकांग में विरोध प्रदर्शन एक विवादित विधेयक के लाए जाने के खिलाफ शुरू हुए थे, जिसमें प्रावधान किया गया था कि अपराधियों को चीन में मुकदमा चलाने के लिए प्रत्यर्पित किया जा सकेगा। हालांकि, सरकार ने इस विधेयक को स्थगित कर दिया है, लेकिन अब यह लोकतंत्र का आंदोलन बन गया है। 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप