इस्तांबुल, एपी। चीन ने उइगर मुस्लिमों के घरों और प्रार्थनास्थलों पर भी दखल देना शुरू कर दिया है। यहां तक की शादी-विवाह से लेकर अंतिम संस्कार तक के सभी आयोजनों में कर्मचारी उपस्थित रहते हैं। कम्युनिस्ट पार्टी के आधिकारिक समाचार पत्र के मुताबिक सितंबर के आखिर तक ऐसे 11 लाख अधिकारियों को उइगर मुस्लिमों के परिवार का हिस्सा बना दिया गया था।

चीन इसे सांस्कृतिक सहयोग बढ़ाने की दिशा में उठाया गया कदम बताता है। वहीं चीन से बाहर रह रहे उइगर मुस्लिमों के रिश्तेदारों का कहना है कि सरकार ने कहीं भी उन्हें अपनी पहचान के साथ जीने लायक नहीं छोड़ा है।

चीन में राष्ट्रपति शी चिनफिंग के नेतृत्व में उइगर मुस्लिम बहुल शिनजियांग प्रांत किसी छावनी में तब्दील कर दिया गया है। गली-चौराहों पर सख्त निगरानी के लिए कैमरे लगाए गए हैं। हर आने-जाने वाले पर नजर रखी जाती है। उइगर समुदाय का कहना है कि कम्युनिस्ट पार्टी ने उनके घरों के अंदर भी नजर रखनी शुरू कर दी है।

तुर्की में रह रही उइगर समुदाय की इदरिस ने कहा, 'सरकार आखिरी सुरक्षित जगह भी खत्म कर रही है। वहां हमारे लोगों पर हमेशा नजर रखी जा रही है। उन्हें हमेशा डर लगा रहता है एक गलती के लिए उन्हें हिरासत में लिया जा सकता है या फिर कुछ और बुरा हो सकता है। उन्हें हर शब्द बोलने से पहले सोचना पड़ता है।'

Posted By: Arun Kumar Singh