यानचेंग, एजेंसी। चीन (China) के शहर यानचेंग (Yancheng) में अब तक का सबसे भीषण औद्योगिक हादसा हुआ है। केमिकल प्लांट में हुए ब्लास्ट में मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर 64 हो गया है। जबकि हादसे के बाद अब भी 24 लोग लापता है। विस्फोट की वजह से 34 लोग की हालत अब भी गंभीर बनी हुई है, जबकि 73 लोग गंभीर रूप से घायल हैं। बताया जा रहा है की इस हादसे में कुल 640 लोग घायल हुए हैं।

चीन में हाल में हुआ यह अब तक का सबसे बड़ा हादसा है। बताया जा रहा है कि ये धमाका 3.0 तीव्रता के भूकंप के बराबर था। धमाका इतना तेज था कि आस पास की कई इमारते ध्वस्थ हो गईं। इससे पहले साल 2015 में तियानजीन के बंदरगाह के पास बड़ा धमाका हुआ था जिसमें 173 लोगों की मौत हो गई थी।

पांच दिवसिय यूरोप दौरे पर गए राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने राहत बचाव के लिए हर संभव मदद देने के लिए कहा है। अब तक तीन हजार मजदूरों और करीब एक हजार स्थानीय लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है। आपातकालीन प्रबंधन मंत्रालय (Ministry of Emergency Management) के मुताबिक घटना स्थल से 88 लोगों को सुरक्षित बचाया गया है।

अधिकारियों के मुताबिक धमाके की वजह से औद्योगिक पार्क की नदियों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। फिलहाल पुलिस ने रासायनिक संयंत्र को अपने कब्जे में ले लिया है। आस पास के सभी स्कूलों को बंद कर दिया गया है।

दरअसल ये ब्लास्ट गुरुवार को जियांगसू के यानचेंग शहर के औद्योगिक पार्क में हुआ। चश्मदीदों ने बताया की प्लांट में हुए धमाके की वजह से कई इमारतें भी गिर गई, जिसमें कई मजदूर दब गए। इसके अलांवा धमाका इतना जोरदार था कि आस पास की इमारतों की खिड़कियां भी चकनाचूर हो गईं। राहत बचाव कार्य के लिए 928 कर्मियों और 176 फायर ट्रकों को लगाया गया है।

बीजिंग यूनिवर्सिटी ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी केे प्रोफेसर ने एक इंटरव्यू में कहा है कि धमाके के बाद प्लांट से जहरीले रसायनों के रिसाव की वजह से आस पास के पर्यावरण और लोगों की सेहत पर बुरा असर पड़ सकता है। इसलिए लोगों को जल्द से जल्द सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने का काम होना चाहिए।

शहर के पर्यावरण संरक्षण प्राधिकरण के अनुसार, विस्फोट से 500 मीटर के दायरे में रासायनिक पार्क और इसके आसपास के क्षेत्रों में हवा की गुणवत्ता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा है। लेकिन तेज हवाओं से भारी धुआं उठने की आशंका है। अधिकारियों ने कहा कि कोई भी व्यक्ति रासायनिक पार्क में नहीं रहता है, जबकि आसपास के सभी लोगों को निकाल लिया गया है। यानचेंग के शिक्षा विभाग ने बताया की धामके वाली जगह के आस पास करीब 10 स्कूल थे। विस्फोट में घायल हुए लोगों में कुछ स्कूल के छात्र भी है।

बताया जा रहा है कि जियांगसू तियानजैई केमिकल कंपनी ने इस संयंत्र को 2007 में स्थापित किया गया था। इसमे हाइड्रोक्सीबेनज़ोइक एसिड जैसे रासायनिक उत्पादों का निर्माण होता था।

जीतेगा भारत हारेगा कोरोन

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस