बीजिंग, प्रेट्र। चीन के स्वदेश निर्मित पहले मानवरहित हेलीकॉप्टर ने रविवार को पठारी क्षेत्र में अपनी पहली उड़ान सफलतापूर्वक पूरी कर ली। इस हेलीकॉप्टर की निर्माता सरकारी कंपनी एविएशन इंडस्ट्री कॉर्प ऑफ चाइना (एवीआइसी) ने सोमवार को बताया कि एआर-500सी प्रोटोटाइप ने पहली पठारी उड़ान दाओचेंग याडिंग एयरपोर्ट पर पूरी की। यह दुनिया का सबसे ऊंचा सिविल एयरपोर्ट है जो 4,411 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

कंपनी ने बताया कि 15 मिनट की उड़ान के दौरान हेलीकॉप्टर ने कई परीक्षण पूरे किए जिसमें ऊंचा उड़ना, मंडराना, घूमना और अन्य संचालन कार्य शामिल हैं। एवीआइसी ने मई में एक बयान जारी कर बताया था कि एआर-500सी का इस्तेमाल विभिन्न अभियानों में किया जाएगा जिनमें टोही और संचार रिले शामिल हैं। यह हेलीकॉप्टर 80 किग्रा पेलोड ले जा सकता है और 4,411 मीटर की ऊंचाई पर पांच घंटे से ज्यादा समय तक उड़ान भर सकता है।                                                                                                                             

चीनी मीडिया के अनुसार, इस हेलिकॉप्टर को भारत से सटी सीमा पर तैनात किया जाएगा। इस हेलिकॉप्टर का निर्माण चीन के सरकारी स्वामित्व वाली एविएशन इंडस्ट्री कॉरपोरेशन ने किया है। इसने अपनी पहली उड़ान मई में पूर्वी चीन के जियांग्शी प्रांत के पोयांग में एक एवीआईसी बेस पर भरी थी। इस दौरान हेलिकॉप्टर ने कई प्रकार के मनुवर को भी प्रदर्शित किया था। यह हेलिकॉप्टर अधिकतम 500 किलोग्राम तक के भार तो उठा सकता है।

बता दें कि AR500C चीन द्वारा विकसित पहला मानव रहित हेलिकॉप्टर है। यह पांच किलोमीटर की रेंज में 6700 मीटर की ऊंचाई तक उड़ान भर सकता है। इसकी अधिकतम स्पीड 170 किलोमीटर प्रति घंटा है, जबकि एक बार में इसे 5 घंटे तक उड़ाया जा सकता है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस