बीजिंग, एएनआइ। भारत की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा अनुच्‍छेद-370 (Article 370) खत्‍म किए जाने से पाकिस्‍तान की सरकार की बेचैनी बढ़ती जा रही है। पाकिस्‍तान इस मामले को लेकर अपने सहयोगी चीन की शरण में है। पाकिस्‍तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी (Shah Mehmood Qureshi) जम्‍मू-कश्‍मीर पर लिए गए भारत सरकार के फैसले के खिलाफ समर्थन जुटाने बीजिंग पहुंचे हैं। उन्‍होंने वहां चीन के विदेश मंत्री वांग वी (Wang Yi) से इस मसले पर बातचीत की, जिसके बाद चीन ने जम्‍मू-कश्‍मीर में हालिया हालात पर चिंता जताई।

पाकिस्‍तान रेडियो के मुताबिक, इस बातचीत के दौरान चीन के विदेश मंत्री ने कुरैशी से कहा कि कश्‍मीर मसले को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों (UN Security Council resolutions) के अनुसार शांतिपूर्ण तरीके से द्विपक्षीय रूप से हल किया जाना चाहिए। चीनी विदेश मंत्री ने भारत और पाकिस्तान दोनों से इस मसले को ठीक से हल करने और किसी भी तनाव बढ़ाने वाली कार्रवाई से बचने की नसीहत दी। अनुच्‍छेद-370 पर दिए गए निर्णय का बिना उल्‍लेख करते हुए चीन ने कहा कि संबंधित पक्ष (भारत) को एकतरफा कार्रवाई से बचते हुए तनाव बढ़ाने का काम नहीं करना चाहिए।

हालांकि, द्विपक्षीय बातचीत के बाद पाकिस्‍तानी विदेश मंत्री दावा किया कि चीन ने पाकिस्‍तान के उस फैसले का समर्थन किया जिसमें उसने कश्‍मीर मसले को संयुक्‍त राष्‍ट्र सुरक्षा परिषद के सामने उठाने की बात कही है। पाकिस्‍तान ने यह भी दावा किया कि चीन इस फैसले पर पाकिस्‍तान का सहयोग करेगा। चीन के विदेश मंत्रालय ने अपने लिखित बयान में कहा है कि उसने पाकिस्‍तान की शिकायत पर ध्‍यान दिया है। हम भारत-पाकिस्‍तान दोनों का आह्वान करते हैं कि वे अपने विवादों को बातचीत से सुलझाते हुए क्षेत्रीय शांति और स्थिरता को बनाए रखें।

चीन ने भी भारत-पाक से कहा है कि वो आपसी बातचीत के जरिये ही किसी भी द्विपक्षीय समस्याओं का समाधान निकाले। चीन के विदेश मंत्रलय के प्रवक्ता ने यह कहा कि दोनों देशों को मौजूदा हालात को बनाए रखने की जरूरत है ताकि तनाव को बढ़ने से रोका जा सके। गौरतलब है कि विदेश मंत्री एस. जयशंकर (S Jaishankar) भी 11 अगस्‍त से अपनी तीन दिवसीय यात्रा पर बीजिंग में होंगे। इस दौरान वह चीन के विदेश मंत्री वांग यी (Wang Yi) के साथ बैठक करेंगे।  

बता दें कि अनुच्‍छेद-370 (Article 370) को लेकर भारत सरकार के फैसले से बौखलाए पाकिस्‍तान ने अपने यहां भारतीय फिल्मों व ड्रामों के पाक में प्रदर्शन पर रोक लगा दी है। इसके साथ ही द्विपक्षीय कारोबार पर भी बैन लगा दिया है। पाकिस्‍तान ने समझौता एक्सप्रेस के आवागमन को भी रोकने का फैसला किया है। यहां तक कि उसने भारतीय राजनयिक को इस्‍लामाबाद से वापस भेज दिया है। हालांकि, पुलवामा हमले के बाद से ही भारतीय फिल्मकार पाकिस्‍तान में फिल्में रिलीज करना बंद कर चुके हैं। 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप