हांग कांग, रायटर। चीन और हांग कांग के बीच बीते साल से जारी तनाव अभी खत्म नहीं हुआ है। इस बीच हांग कांग में कोरोना महामारी का कहर जारी है। हांग कांग में तेजी से फैलते कोरोना वायरस पर लगाम लगाने के लिए चीन ने अब तैयारी कर ली है। हांग कांग में कोरोना महामारी की तीसरी लहर को रोकने के लिए चीन अपनी 60 स्वास्थकर्मियों की टीम हांग कांग भेज रहा है। इसके तहत पहले 7 स्वास्थकर्मियों की टीम रविवार को हांग कांग पहुंचेगी। इसके बाद पूरी 60 लोगों की टीम हांग कांग पहुंचकर तेजी से और बड़े पैमाने पर कोरोना की जांच करेगी। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने शनिवार को अपने निर्धारित आगमन की घोषणा की।

जानकारी के मुताबिक, इस टीम के सदस्य ग्वांगडोंग प्रांत के सार्वजनिक अस्पतालों से हैं, जबकि वुहान से छह की एक विशेषज्ञ टीम, जहां दुनिया में सबसे पहली बार कोरोनावायरस दिखाई दिया था। यह टीम COVID-19 रोगियों के लिए एक सुविधा के रूप में AsiaWorld एक्सपो सम्मेलन केंद्र का हिस्सा तैयार करने में मदद करेगा। यह पहली बार है जब चीन के स्वास्थ्य अधिकारी कोरोना वायरस को नियंत्रित करने के लिए अपनी लड़ाई में हांगकांग की सहायता की है।

कुछ स्थानीय निवासियों को डर है कि चीन निगरानी उद्देश्यों के लिए डीएनए नमूने एकत्र करने के बहाने के रूप में इसका इस्तेमाल कर सकता है। हांग कांग की नेता कैरी लैम ने शनिवार को कहा कि पूर्व ब्रिटिश उपनिवेश ने मामलों में पुनरुत्थान के कारण केंद्र सरकार से मदद मांगी। शनिवार को स्थानीय प्रसारक आरटीएचके ने बताया कि कैरी लैम ने कहा  कि सरकार का अध्ययन था कि क्या हांगकांग में सभी का परीक्षण किया जा सकता है। चीनी क्षेत्र ने जुलाई में स्थानीय रूप से प्रसारित कोरोना वायरस के मामलों में वृद्धि देखी और दो लोगों को इकट्ठा करने और  सार्वजनिक स्थानों पर मास्क को अनिवार्य करने सहित कड़े उपायों की एक सीमा पेश की।

Posted By: Shashank Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस