बीजिंग, रायटर्स। उइगर मुस्लिम बच्चों को लेकर जारी एक न्यूज रिपोर्ट को चीन ने खारिज कर दिया है। दरअसल इस रिपोर्ट में कहा गया था कि चीन द्वारा उइगर बच्चों को उनके माता-पिता से अलग किया जा रहा है। चीनी विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को यह रिपोर्ट खारिज कर दी है।

इकोनोमिस्ट मैग्जीन ने शिनजियांग में चीन की नीतियों को लेकर एक रिपोर्ट जारी की थी। इस रिपोर्ट में कहा गया था कि सोशल इंजीनियरिंग पॉलिसी के तहत उइगर मुस्लिमों के बच्चों को उनके परिजनों से अलग किया जा रहा है। आज एक प्रेस ब्रीफिंग के दौरान विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियांग (Zhao Lijian) ने पत्रिका की इस रिपोर्ट को खारिज कर दिया है।

बता दें कि चीन के इस पश्चिमोत्तर प्रांत शिनजियांग में बड़ी संख्या में उइगर रहते हैं। चीनी सरकार न सिर्फ इनकी निगरानी करती है बल्कि मानवाधिकारों का हनन कर इन पर कई तरह की सख्त पाबंदियां भी लगा रखी हैं। लाखों उइगरों को हिरासत में भी रखा गया है।

बच्चा पैदा करने पर भी है शर्त

एक मानवाधिकार संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक, अगर उइगर महिलाओं ने चीन की कम्यूनिस्ट सरकार के नियमों के अनुरूप गर्भधारण नहीं किया, तो उन्हें अपना गर्भपात कराना पड़ता है।  चीन में उइगर महिलाओं को अब पहली संतान के जन्म के बाद दूसरी के लिए तीन या चार साल का अंतर रखना पड़ता है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस