बीजिंग, प्रेट्र। भारत से लगी तिब्बत की सीमा पर चीन अपनी सेना की युद्धक क्षमताओं को लगातार मजबूत कर रहा है। इस कवायद में उसने अपनी सेना को मोबाइल हॉवित्जर तोपों से लैस किया है। तिब्बत जैसे सीमावर्ती क्षेत्रों में तैनाती के लिए हाल में सेना में नए हल्के युद्धक टैंक भी शामिल किए गए थे।

चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स में मंगलवार को प्रकाशित एक खबर में बताया गया है कि स्वायत्त क्षेत्र तिब्बत में तैनात चीन की सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) को मोबाइल हॉवित्जर से लैस किया गया है। इसका मकसद सीमा सुरक्षा को बेहतर करने के लिए ऊंचाई वाले क्षेत्रों में सेना की युद्धक क्षमता को बढ़ाना है।

चीन के सैन्य विश्लेषकों के हवाले से इसमें बताया गया है कि नया हथियार पीएलसी-181 व्हीकल माउंटेड हॉवित्जर है। एक तोपखाना ब्रिगेड ने 2017 में उस दौरान इस हथियार का इस्तेमाल किया था जब भारत और चीन की सेना डोकलाम में 73 दिनों तक आमने-सामने थी।

हॉवित्जर तोपों की खासियत

-इसमें 52-कैलिबर की तोप लगी है, जिसकी रेंज 50 किमी से ज्यादा है

-यह लेजर गाइडेड और सेटेलाइट गाइडेड मिसाइल भी दागने में सक्षम है

-तिब्बत जैसे ऊंचाई वाले क्षेत्रों में पीएलए की बढ़ेगी मारक क्षमता

पीएलए को मिले हैं हल्के टैंक भी

पीएलए को तैनाती के लिए हाल में नई पीढ़ी के टाइप-15 नाम के हल्के युद्धक टैंक भी मिले हैं। इनकी तैनाती भी तिब्बत में किए जाने की संभावना है। इस टैंक में 105 एमएम की गन लगी है। यह गाइडेड मिसाइल दागने में सक्षम है। इसमें एक हजार हॉर्सपावर का इंजन लगा है, जो पीएलए के दूसरे प्रमुख युद्धक टैंकों से काफी हल्का है। 

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप