वाशिंगटन एएनआइ। चीन सैन्य उपयोग के लिए कंबोडिया में एक नौसैनिक सुविधा का निर्माण कर रहा है, जो इस तरह की दूसरी विदेशी चौकी है और रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में चीन की ये पहली चौकी है। द वाशिंगटन पोस्ट ने अनुसार सैन्य उपस्थिति कंबोडिया के रीम नेवल बेस के उत्तरी हिस्से में थाईलैंड की खाड़ी पर होगी।

चीन पूरी दुनिया में अपने सैन्य बेस को फैलाने की कोशिश कर रहा है। इसके लिए वो आर्थिक रूप से कमजोर देशों को कर्ज देकर उनके यहां घुसपैठ कर रहा है।

अब इसी लिस्ट में कंबोडिया भी है। वहां पर चीन नौसैनिक सुविधा का निर्माण कर रहा है, जो असल में सैन्य बेस की तरह काम करेगा। इससे चीन हवा और समुद्र दोनों ही तरीको से और ज्यादा ताकतवर हो जाएगा।

पूर्वी अफ्रीकी देश जिबूती में नौसैनिक सुविधा के बाद अभी यह चीन का एकमात्र अन्य विदेशी सैन्य अड्डा है। रिपोर्ट के अनुसार, इस तरह के ठिकाने थिएटर में सैन्य बलों की तैनाती और अमेरिकी सेना की खुफिया निगरानी को सक्षम बना सकते हैं।

बता दें कि नया नौसैनिक अड्डा चीन का एक वैश्विक शक्ति बनने की अपनी आकांक्षाओं के समर्थन में दुनिया भर में सैन्य सुविधाओं का एक नेटवर्क बनाने की बीजिंग की रणनीति का हिस्सा है।

चीन बढ़ा रहा अपने प्रभाव क्षेत्र का हिस्सा

अमेरिकी अधिकारियों और विश्लेषकों के अनुसार, इस क्षेत्र में अपने प्रभाव का विस्तार करने के लिए बड़े नौसैनिक जहाजों की मेजबानी करने में सक्षम एक सुविधा देश की महत्वाकांक्षा का एक महत्वपूर्ण तत्व होगा।

एक पश्चिमी अधिकारी ने कहा कि हम आकलन करते हैं कि इंडो-पैसिफिक चीन के नेताओं के लिए एक महत्वपूर्ण टुकड़ा है, जो इंडो-पैसिफिक को चीन के सही और ऐतिहासिक प्रभाव क्षेत्र के रूप में देखते हैं।

वे एक बहुध्रुवीय दुनिया की ओर एक वैश्विक प्रवृत्ति के हिस्से के रूप में चीन के उदय को देखते हैं जहां प्रमुख शक्तियां अपने प्रभाव के कथित क्षेत्र में अपने हितों को अधिक मजबूती से रखती हैं।

चीन ने किये गुप्त समझौते पर हस्ताक्षर

2019 में प्रकाशित द वॉल स्ट्रीट जर्नल के अनुसार, इस मामले से परिचित अमेरिका और संबद्ध अधिकारियों का हवाला देते हुए, चीन ने अपनी सेना को जमीन का उपयोग करने की अनुमति दिलाने के लिए एक गुप्त समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।

हालांकि, दोनों देशों ने रिपोर्ट का खंडन किया था। उस समय, कंबोडियाई प्रधानमंत्री हुन सेन और चीनी रक्षा मंत्रालय दोनों ने इस रिपोर्टों को खारिज कर दिया था।

दूसरे अधिकारी ने द पोस्ट को बताया, हमने जो देखा है, वह समय के साथ-साथ अंतिम लक्ष्य के साथ-साथ चीनी सैन्य भागीदारी की सीमा को छिपाने और छिपाने की कोशिश करने का एक बहुत स्पष्ट और सुसंगत पैटर्न है।

Edited By: Shashank_Mishra