बीजिंग, प्रेट्र। चीन ने कहा है कि वह ब्रह्मपुत्र नदी के जल संबंधी वैज्ञानिक आंकड़े फिलहाल भारत को उपलब्ध नहीं करा पाएगा। चूंकि उसके यहां आंकड़े एकत्र करने वाले तिब्बत स्थित स्टेशन का सुधार कर उसे बेहतर बनाया जा रहा है।

चीन ने हालांकि यह जरूर कहा कि वह डोकलाम गतिरोध के समय जून मध्य में रोक दी गई कैलाश और मानसरोवर की यात्रा को फिर शुरू करने पर बातचीत के लिए तैयार है। भारतीयों की इस तीर्थयात्रा के लिए सिक्किम में नाथूला दर्रे को भारत में फिर से खोले जाने पर विचार-विमर्श होना है।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने बताया कि लंबे समय से भारतीय पक्ष के साथ नदी के आंकड़े साझा किए जा रहे हैं। जब पूछा गया कि डोकलाम गतिरोध के कारण रोके ब्रह्मपुत्र नदी के आंकड़े चीन अब कब मुहैया कराएगा? जवाब में चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा कि हम इस पर बाद में विचार करेंगे। जब पूछा गया कि क्या भारत को इस बारे में जानकारी दी गई है तो चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा कि उनके मुताबिक भारतीय पक्ष को इसकी जानकारी है।

उल्लेखनीय है कि 18 अगस्त को भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने बताया था कि वर्ष 2006 से विशेषज्ञ स्तर पर सतलुज और ब्रह्मपुत्र नदी के आंकड़े चीन भारत से साझा करता है। यह जानकारी 15 मई से 15 जून तक बाढ़ के मौसम का ब्योरा देती है।

यह भी पढ़ें: आखिर क्यों और कैसे भारत से NSA वार्ता के लिए तैयार हुआ चीन, क्या है वजह

Posted By: Manish Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस