बीजिंग, प्रेट्र। चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने हाल ही में पश्चिमी सीमा के क्षेत्रों की 3डी मैपिंग शुरू की है। सरकारी 'ग्लोबल टाइम्स' ने बताया कि सेंटीमीटर के स्तर तक सटीक इस 3डी मैपिंग से बुनियादी ढांचे के निर्माण के साथ-साथ इस क्षेत्र में चीनी सेना की युद्धक क्षमता बढ़ाने में मदद मिलेगी।

चीन की 14 देशों से लगती 22 हजार किलोमीटर की सबसे लंबी सीमा है। इनमें पश्चिमी क्षेत्र में भारत सहित 11 देश हैं। भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख सहित 3,488 किलोमीटर की लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) है। नेविगेशन एंड मैपिंग यूनिट के डिप्टी लीडर वांग यानबिन ने बताया कि यह एक सटीक पैमाने की तरह है। इसकी मदद से रिमोट सेंसिंग तस्वीरों के को-ऑर्डिनेट और भौगोलिक डाटा जुटाना संभव होगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021