बीजिंग, रायटर। संयुक्त राष्ट्र खाद्य एवं कृषि संगठन (यूएनएफएओ) ने शुक्रवार को कहा कि चीन को अपनी चपेट में ले चुके अफ्रीकन स्वाइन फीवर का अन्य एशियाई देशों में भी फैलना तय है। चीन के छह प्रांतों के 18 सुअर फार्मो में गत अगस्त में इस फीवर का पता चला था। इनमें से कई फार्म एक-दूसरे से एक हजार किलोमीटर से भी ज्यादा दूर स्थित हैं।

चीन की तरह अन्य एशियाई देशों में भी सुअर के मीट का सेवन किया जाता है। इसलिए यूएनएफएओ का मानना है कि इसका वायरस पड़ोसी देशों में भी फैल सकता है। यूएनएफएओ के मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी जुआन लब्रोथ ने कहा, 'बहुत कम समय में चीन में इसके फैलने का मुख्य कारण संक्रमित मीट को एक जगह से दूसरी जगह पर ले जाना है।
स्वाइन फीवर के वायरस से जंग आसान नहीं है क्योंकि संक्रमित मीट में यह महीनों तक जीवित रह सकता है।' स्वाइन फीवर पर काबू पाने के लिए चीन में हजारों संक्रमित सुअरों को मार दिया गया है और सुअर के मीट को एक शहर से दूसरे शहर ले जाने पर रोक लगा दी गई है।

 

Posted By: Arun Kumar Singh