तेहरान (एएफपी)। इरान की ज्‍यूडिशियरी के अनुसार, जासूसी मामले में अपने खिलाफ पर्याप्‍त सबूत न होने के कारण इरानी कनाडाई कार्यकर्ता ने जेल में आत्‍महत्‍या कर ली।

कावस सैयद इमामी के बेटे राम इमामी ने शनिवार को ट्वीटर पर इस घटना की जानकारी देते हुए कहा कि 24 जनवरी को गिरफ्तार किए गए पिता की जेल में मौत हो गयी। पर्यावरण कार्यकर्ता 63 वर्षीय सैयद इमामी के पास दोहरी नागरिकता थी और वे इरान के इमाम सादेघ यूनिवर्सिटी में सोशियोलॉजी के प्रोफेसर थे।

राम इमामी ने लिखा, ‘मेरे पिता की मौत पर विश्‍वास करना असंभव है। मुझे अब तक विश्‍वास नहीं हो रहा है। हमने स्‍वतंत्र ऑटोप्‍सी की मांग की है।‘

सैयद इमामी पर्शियन वाइल्‍डलाइफ हेरिटेज फाउंडेशन के डायरेक्‍टर थे जो इरान के विलुप्‍तप्राय जानवरों के संरक्षण के लिए काम करता है।

राम इमामी ने अपने इंस्‍टाग्राम अकाउंट पर लिखा कि इरान के अधिकारियों ने बताया कि उनके पिता ने आत्‍महत्‍या की। लेकिन इसके विपरीत सैयद इमामी के मित्र अहमद साद्री ने कहा कि इसपर विश्‍वास करना काफी कठिन है। साद्री ने कहा कि यह खबर उनके मित्रों व शिक्षा क्षेत्र के लिए काफी चौंकाने वाला है।

इमामी के परिजनों ने शव के ऑटोप्‍सी के लिए इरान से अनुमति मांगी है। बता दें कि इरान में कनाडा का दूतावास नहीं है। दोनों देशों ने 2012 में राजनयिक संबंध तोड़ लिए थे। तब से देश में इटली कनाडा के हितों को प्रस्‍तुत करता है।

Posted By: Monika Minal