नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। विश्व में चार व्यक्तियों में से एक व्यक्ति जीवन के किसी न किसी मोड़ पर मानसिक विकार (mental health)से प्रभावित होता है। यदि अलग-अलग आयु वर्ग को ध्यान में रखकर इस बीमारी के बारे में बात करें तो इसका प्रतिशत अलग-अलग निकलेगा। फिलहाल 10 में से 19 साल की उम्र के व्यक्तियों की इस रोग में भागीदारी 16 फीसदी है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार 450 मिलियन लोग वैश्विक स्तर पर मानसिक विकार से पीड़ित हैं। विश्व मानसिक स्वास्थ्य संघ (वर्ल्ड फेडरेशन फॉर मेंटल हेल्थ) ने विश्व के लोगों के मानसिक स्वास्थ्य देखभाल को यथार्थवादी बनाने के लिए वर्ष 1992 में विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस की स्थापना की थी। मानसिक विकार विश्व में रुग्ण-स्वास्थ्य और विकलांगता उत्पन्न करने वाला प्रमुख कारण हैं।

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस 

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से हर साल 10 अक्टूबर को मनाया जाता है। इसका एक दूसरा बड़ा कारण ये भी होता है कि विश्व में हर तबके के लोगों को इस बीमारी के बारे में भी पता चले और वो उस लिहाज से उसके बचाव के लिए पहले से तैयार रहें। विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस साल 2018 "विश्व के बदलते परिदृश में वयस्क और मानसिक स्वास्थ्य" पर केंद्रित था।

अलग-अलग होते हैं कारण

किशोरावस्था और वयस्कता का शुरुआती साल जीवन का वह समय होता है, जब कई बदलाव होते हैं, उदाहरण के लिए स्कूल बदलना, घर छोड़ना तथा कॉलेज, विश्वविद्यालय या नई नौकरी शुरू करना। कई लोगों के लिए ये रोमांचक समय होता हैं तथा कुछ मामलों में यह तनाव और शंका का समय हो सकता है। कई लाभों के साथ ऑनलाइन प्रौद्योगिकियों का बढ़ता उपयोग इस आयु वर्ग के लोगों के लिए अतिरिक्त दबाव भी लाया है, हालांकि यदि इसे पहचाना और प्रबंधित नहीं किया जाता है तो यह तनाव मानसिक रोग उत्पन्न कर सकता है। 

वयस्कों में मानसिक समस्याएं

सभी मानसिक रोगों में से आधे 14 साल की उम्र तक शुरू होते है लेकिन अधिकांश मामले रोग की जानकारी और उपचार के बिना रह जाते है। किशोरों में रोग के संदर्भ में अवसाद(डिप्रेशन) तीसरा प्रमुख कारण है। आत्महत्या 15 से 29 साल के लोगों के बीच मृत्यु का दूसरा प्रमुख कारण है। किशोरों में अल्कोहल और मादक पदार्थों का हानिकारक उपयोग कई देशों में एक प्रमुख समस्या है तथा यह असुरक्षित यौन संबंध या खतरनाक ड्राइविंग जैसा जोखिमपूर्ण व्यवहार उत्पन्न करता है। आहार विकार भी चिंता का विषय हैं।

रोकथाम की शुरूआत

भारत में लगभग 356 मिलियन लोग दस से चौबीस वर्ष की आयु के बीच हैं। भारत लगभग तीस प्रतिशत युवा जनसंख्या के साथ युवाओं का देश है। किशोरों और वयस्कों के बीच मानसिक परेशानी की रोकथाम और प्रबंधन की शुरूआत जागरूकता बढ़ाकर और मानसिक रोग के प्रारंभिक चेतावनी संकेतों और लक्षणों को समझकर कम उम्र से की जानी चाहिए।

माता पिता कर सकते मदद

बच्चों के माता-पिता और शिक्षक घर एवं स्कूल में रोजमर्रा की चुनौतियों का मुकाबला करने में सहयोग के लिए बच्चों और किशोरों के जीवन कौशल निर्माण करने में मदद कर सकते हैं जैसे कि सामाजिक कौशल, समस्या सुलझाने का कौशल और आत्मविश्वास बढ़ाना। संसाधन और सेवाएं उत्पन्न और विकसित करने पर केंद्रित होना चाहिए, जोकि व्यस्कों को सशक्त और जुड़ा महसूस होने में सहयोग करता हैं। मनोवैज्ञानिक सहयोग स्कूलों और अन्य सामुदायिक स्तरों पर प्रशिक्षित स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा प्रदान किया जा सकता है। मानसिक स्वास्थ्य विकारों का पता लगा सकते हैं तथा उन्हें प्रतिबंधित कर सकते हैं।  

Posted By: Vinay Tiwari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप