वाशिंगटन, पीटीआइ। योगा को बढ़ावा देने के लिए भारत के बाहर पहली योगा यूनिवर्सिटी(yoga university) शुरू हो रही है। इस यूनिवर्सिटी में अगले साल से कक्षाएं शुरू होंगी। इस यूनीवर्सिटी की स्थापना अमेरिका में शोध करने के बाद की जा रही है। यूनिवर्सिटी में एडमिशन प्रक्रिया इस साल अप्रैल महीने में शुरू हो जाएगी। विवेकानंद योगा यूनीवर्सिटी (Vivekananda Yoga University) की तरफ से योगा यूनीवर्सिटी की स्थापना के लिए Los Angeles में शुरूआती स्तर पर कैंपस बना दिया है।

Case Western University के प्रोफेसर श्री श्रीनाथ (Sree Sreenath) को इस यूनीवर्सिटी का अध्यक्ष चुना गया है जबिक इंडियन योगा गुरु एच आर नागेंद्र (H R Nagendra) को चैयरमैन चुना गया है। यूनिवर्सिटी स्थापना का कार्य इस साल अगस्त 2020 तक शुरू होगा, जबकि अप्रैल महीने में योगा में मास्टर कोर्स करने के लिए एडमिशन शुरू हो जाएगा। 

ब्यूरो ऑफ प्राइवेट पोस्टकॉन्डरी एजुकेशन, कैलिफोर्निया (Bureau for Private Postsecondary Education) से आधिकारिक मान्यता प्राप्त करने के तीन महीने के भीतर योगा यूनिवर्सिटी शुरू करने का फैसला किया गया। इसकी मान्यता साल 2019 में नवंबर महीने में दी गई थी। VAYU की तरफ से इस योगा यूनिवर्सिटी में सहयोगी अनुसंधान (collaborative research) की सुविधा प्रदान की जाएगी। इसके जरिए विशभर की यूनिवर्सिटी का भी सहयोग मिलेगा।

NASA के पूर्व वैज्ञानिक नागेंद्र ( Nagendra said) ने न्यूज एजेंसी पीटीआइ को दिए इंटरव्यू में कहा कि आदमी के अंदर शिक्षा उसको पूर्ण बनाती है और वह राष्ट्र निर्माण में अपनी शिक्षा के जरिये योगदान कर सकता है। VAYU का मकसद छात्रों में शिक्षा देना है ताकी वह राष्ट्र निर्माण में अपना योगदान दे सके। साल 2002 में भारत में पहली योगा यूनिवर्सिटी शुरू की गई थी। नागेंद्र ने बताया कि इससे प्रेरित होकर ही उन्होंने विश्व में योगा यूनीवर्सिटी का निर्माण करने की प्रेरणा मिली। 

VAYU के सदस्य प्रेम भंडारी (Prem Bhandari)ने बताया कि इस यूनिवर्सिटी के निर्माण से योगा की शिक्षा सीमित नहीं रहेगी। इसके अलावा उन्होंने भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने के प्रयास के चलते ही विश्वभर में 21 जून को योगा इंटरनेशल डे मनाया जाता है। 

Edited By: Pooja Singh