वाशिंगटन, प्रेट्र। अपने भारत दौरे से पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव में कम करने की कोशिश कर रहे हैं। ट्रंप के दौरे से ठीक पहले व्हाइट हाउस ने शुक्रवार को जोर देते हुए कहा कि दोनों पड़ोसियों(भारत और पाकिस्तान) के बीच कोई सफल वार्ता तभी संभव होगी, जब पाकिस्तान अपनी जमीन पर आतंकवादियों और चरमपंथियों के खिलाफ कार्रवाई कर उनके खिलाफ शिकंजा कसेगा।

गौरतलब है कि पिछले साल 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ गया था। भारत के फैसले ने पाकिस्तान से तीखी प्रतिक्रियाएं पैदा कीं, जिसके बाद पाकिस्तान ने भारत के साथ अपने राजनयिक संबंधों को कम किया और भारतीय दूत को पाकिस्तान से वापस भेज दिया।

ट्रंप प्रशासन के एक वरिष्ठ अधिकारी से जब सवाल किया गया कि क्या ट्रंप अपनी आगामी भारत यात्रा के दौरान कश्मीर मुद्दे पर फिर से मध्यस्थता करने की पेशकश करेंगे, इसके जवाब में उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि आप राष्ट्रपति से जो सुनेंगे, वह भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव को कम करने के लिए दोनों देशों को एक-दूसरे के साथ द्विपक्षीय वार्ता में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करना चाहते है।'

ट्रंप ने दिया था मध्यस्थता का प्रस्ताव

बता दें, ट्रंप ने पिछले महीने भारत और पाकिस्तान के बीच विवाद को सुलझाने में मदद करने की पेशकश करते हुए कहा था कि अमेरिका, कश्मीर पर दोनों देशों(भारत-पाकिस्तान) के बीच हुए घटनाक्रम को बहुत करीब से देख रहा था। ट्रंप ने पिछले दिनों कश्मीर मुद्दे पर मध्यस्थता करने की पेशकश की थी, लेकिन भारत ने अमेरिका को यह साफ कर दिया था कि यह भारत और पाकिस्तान के बीच का एक द्विपक्षीय मामला है और किसी भी तीसरे पक्ष की मध्यस्थता के लिए कोई गुंजाइश नहीं है।

व्हाइट हाउस के अधिकारी अधिकारी ने कहा, 'हम दोनों देशों (भारत और पाकिस्तान) के बीच किसी भी सफल वार्ता के मूल आधार पर अपना विश्वास जारी रखना चाहते है। लेकिन यह वार्ता पाकिस्तान द्वारा अपने क्षेत्र में आतंकवादियों और चरमपंथियों पर नकेल कसने के प्रयासों पर आधारित है।'

FATF की ग्रे लिस्ट में पाकिस्तान बरकरार

व्हाइट हाउस की ओर से यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में चार महीने और बनाए रखने के साथ ही ग्लोबल एंटी-टेरर फाइनेंसिंग वॉचडॉग की कड़ी चेतावनी मिली है। पाकिस्तान को आतंकियों के खिलाफ 27 कार्य बिंदुओं के तहत कार्रवाई के लिए सिर्फ तार महीने का समय मिला है। अगर पाकिस्तान ने जून 2020 तक आतंकियों के खिलाफ कोई ठोस कार्रवाई नहीं की तो उसे FATF की 'ब्लैक लिस्ट' में डाल दिया जाएगा।

अमेरिका के व्हाइट हाउस की ओर से कहा गया, 'हमें लगता है कि राष्ट्रपति दोनों देशों से नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर शांति और स्थिरता बनाए रखने और ऐसे कदमों या बयानों से परहेज करने का आग्रह करेंगे, जो उस क्षेत्र में तनाव बढ़ा सकते हैं।'

भारत का कश्मीर पर पाकिस्तान को जवाब

भारत ने अगस्त में कश्मीर का विशेष दर्जा हटाए जाने के अपने कदम का बचाव करते हुए कहा था कि विशेष दर्जे के प्रावधानों ने ही जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद को जन्म दिया। पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे का अंतर्राष्ट्रीयकरण करने की कोशिश कर रहा है, लेकिन भारत ने कश्मीर से अनुच्छेद-370 को हटाएम जाने के फैसले को  अपना आंतरिक मामला बताया था। भारत ने भी पाकिस्तान को वास्तविकता स्वीकार करने और भारत विरोधी बयानबाजी को रोकने के लिए कहा है।

Posted By: Shashank Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस