वाशिंगटन (एजेंसी)। अमेरिका ने स्‍पष्‍ट तौर पर पाकिस्‍तान में मौजूद आतंकी ठिकानों के खिलाफ इस्‍लामाबाद से कार्रवाई की उम्‍मीद जताई। शीर्ष अमेरिकी राजनयिक ने यह जानकारी दी। हाल में ही अफगानिस्‍तान दौरे से लौटे अमेरिका के उप-विदेश मंत्री जॉन जे सुल्‍लीवन ने कहा कि अमेरिका को पाकिस्‍तान से यह भी उम्‍मीद है कि क्षेत्र में शांति स्‍थापित करने में वह पूरा सहयोग देगा।

उन्‍होंने कहा, ‘अफगान नेतृत्‍व के साथ यह मेरी वार्ता का हिस्‍सा था। हमने पाकिस्‍तान सरकार से अपनी उम्‍मीदों को स्‍पष्‍ट कर दिया है कि वहां मौजूद आतंकी ठिकानों के खिलाव वे कार्रवाई करें ताकि अफगानिस्‍तान में हिंसा के खतरे और दवाब को कम किया जा सके।‘

उन्‍होंने अफगान राष्‍ट्रपति अशरफ गनी, चीफ एक्‍जीक्‍यूटिव अब्‍दुल्‍ला अब्‍दुल्‍ला, विदेश मंत्री सलाहुद्दीन रब्‍बानी व अन्‍य वरिष्‍ठ अधिकारियों से मुलाकात की। उन्‍होंने कहा, ‘अफगानिस्‍तान में आतंकी संगठनों, अल कायदा, आइएसआइएस के खात्‍मे के लिए अमेरिका की ओर से अफगान सहयोगियों को समर्थन जारी रहेगा।‘

सुल्‍लीवन ने कहा कि अफगानिस्तान की उनकी यात्रा में उन्हें देश के साथ अपनी साझीदारी को मजबूत करने की अमेरिका की प्रतिबद्धता को फिर से मजबूत करने का अवसर मिला। उन्होंने इस बात पर अफसोस जताया कि इस चरण पर हर किसी के शांति चाहने के बावजूद तालिबान बातचीत के लिए इच्छुक नहीं दिख रहा है।

सुल्‍लीवन ने कहा कि उन्होंने अफगानिस्तान के नेताओं के साथ सुरक्षा सहयोग और समय से राष्ट्रपति चुनाव कराने की पर पर चर्चा की। पेंटागन की मुख्य प्रवक्ता डाना वाइट ने भी कहा कि नई दक्षिण एशियाई रणनीति के तहत पाकिस्तान के पास आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में साझीदार बनने का अवसर है। उन्होंने कहा, 'वह (पाकिस्तान) आतंकवाद से पीड़ित रहा है और उसने आतंकवाद को सहयोग दिया है। हम चाहते हैं कि वह आतंकवाद का मुकाबला करने में सक्रिय भूमिका निभाए।'

यह भी पढ़ें: पाक को फाटे की बैठक से पहले आतंकी संगठनों के खिलाफ ठोस कदम उठाने होंगे, जानिए क्यों

Posted By: Monika Minal