केंटकी, एएनआइ। अफ्रीकी-अमेरिकी नर्स ब्रायो टेलर की मौत में एक जूरी के फैसले के बाद विरोध प्रदर्शन की दूसरी रात गुरुवार को केंटकी के लुइसविले चर्च के आसपास  सौ लोग फिर से इकट्ठा हो गए। द न्यू यॉर्क टाइम्स ने बताया कि रात के कर्फ्यू के बीच, प्रदर्शनकारी ब्रेटन टेलर की मौत में तीन पुलिस कर्मियों में से केवल एक को मारने के केंटकी ग्रैंड जूरी के फैसले के बाद फर्स्ट यूनिटेरियन चर्च में एकत्र हुए थे।

एनवाईटी के अनुसार, जूरी के फैसले ने व्यापक आक्रोश पैदा किया है और देशभर में ब्लैक लाइव्स मैटर आंदोलन को फिर से जन्म दे दिया। ऑफिसर ब्रेट हैन्किसन पर टेलर की मौत के मामले में वांटेड एंडेंजमेंट के तीन कम केस लगाए गए थे, जिनकी 13 मार्च को उनके घर पर पुलिस छापे में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। द हिल ने बताया कि पीड़िता का कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं था। प्रचंड संकट की प्रत्येक गणना में पांच साल तक की जेल हो सकती है।

बता दें कि अमेरिका में इससे पहले भी अश्वेत व्यक्ति की मौत को लेकर बवाल जारी है। अमेरिका में पहले जॉर्ज फ्लॉयड की मौत को लेकर जमकर बवाल हुआ था। इसके बाद ये मामला पूरी तरह से अभी थमा भी नहीं था कि एक और अश्वेत की मौत से बवाल शुरू हो गया। दरअसल, कुछ हफ्तों पहले ही लॉस एंजेलिस में पुलिस की गोली लगने से युवक की मौत हो गई थी। मामले में पुलिस का कहना है कि युवक ने हाथ में बंदूक ली हुई थी। हालांकि लोकल मीडिया के अनुसार, मारे गए 29 साल के युवक का नाम डिजोन किज्जी बताया जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक,  सोमवार को डिजोन अपनी साइकिल से जा रहा था कि उसी दौरान पुलिस ने उसे व्हीकल कोड का उल्लंघन करने पर रोकने की कोशिश की। लेकिन, वह नहीं रुका और भागने लगा। इस दौरान ही ये घटना घटी।

जीतेगा भारत हारेगा कोरोन

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस