वाशिंगटन, (प्रेट्र)। अमेरिका ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के दामाद सहित कई व्यापारियों और कई उद्यमों पर प्रतिबंध लगा दिया है। इन सभी पर रूस की सरकार के पश्चिमी देशों को नजरअंदाज करने के प्रयास से लाभ उठाने का आरोप है। अमेरिकी ट्रेजरी विभाग ने शुक्रवार को प्रतिबंध लगाने की घोषणा की। विभाग ने रूस के 17 सरकारी अधिकारियों पर भी प्रतिबंध लगाया है।

हथियारों के कारोबार से जुड़ी रूस की सरकारी कंपनी रोसोबोरोनेक्सपोर्ट का सीरिया के साथ लंबे समय से संबंध है। उसके सहायक रूसी फाइनेंशियल कारपोरेशन बैंक को भी नए प्रतिबंध का निशाना बनाया गया है। अमेरिकी ट्रेजरी सेक्रेट्री स्टीवन टी. मनुचिन ने रूस के खिलाफ नए प्रतिबंधों की घोषणा करते हुए कहा, 'रूस की सरकार व्यापारियों और सरकारी उद्यमों के असीमित लाभ के लिए काम करती है।'

इस कार्रवाई के निशाने पर रूस के व्यापारी किरिल शामालोव भी हैं। शामालोव पुतिन की बेटी के पति हैं और 2013 में शादी करने के बाद उन्होंने बेशुमार धन अर्जित किया है।

जानिए क्या है विवाद

रूस और ब्रिटेन के मध्य हुए एक छोटे से राजनयिक विवाद ने धीरे-धीरे विश्व के अनेक महाशक्ति राष्ट्रों के बीच शीतयुद्ध जैसा रूप ले लिया है। पूरे घटनाक्रम पर दृष्टि डालें तो बीते मार्च में रूस के पूर्व जासूस सर्गेई स्क्रिपल और उनकी बेटी पर ब्रिटेन में हुए रासायनिक हमले के बाद इस विवाद की शुरुआत हुई।

रासायनिक हमला हुआ तो इसका आरोप ब्रिटेन ने रूस पर लगाते हुए उसके 23 राजनयिकों को निष्कासित कर दिया। बदले में रूस ने भी ब्रिटेन के उतने ही राजनयिकों को निकालने का एलान कर दिया, जिसके बाद ब्रिटेन के समर्थन में बीस से अधिक यूरोपीय देशों सहित अमेरिका ने भी रूसी राजनयिकों को निष्कासित करने की घोषणा कर दी। जिसके बाद रूस ने भी अमेरिका के 60 राजनायिकों को अपने देश से निकाल दिया।

Posted By: Arti Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस