नई दिल्‍ली, जागरण स्‍पेशल । हांगकांग Hong Kong मामले को लेकर अमेरिका और चीन आमने-सामने आ सकते हैं। अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने हांगकांग में लोकतंत्र समर्थक प्रदर्शनकारियों Hong Kong Human Rights and Democracy Act द्वारा मांगे गए एक विधेयक को मंगलवार को पारित कर दिया है। इसका मकसद चीन से नाराज प्रतिक्रिया को देखते हुए अर्ध-स्वायत्त क्षेत्र में नागरिक अधिकारों का बचाव करना है। यह प्रदर्शनकारियों के लिए मंगल भरी खबर होगी, लेकिन हांगकांग और चीन सरकार के लिए यह खबर अमंगल कारक होगी।

प्रतिनिधि सभा के बाद सीनेट में जाएग बिल

अमेरिकी प्रतिनिधि सभा द्वारा पारित 'हांगकांग मानवाधिकार और लोकतंत्र अधिनियम बिल अब सीनेट में जाएगा। सीनेट के बाद राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप इस बिल पर हस्‍तक्षार होंगे। अगर यह बिल सीनेट पास हुआ तो चीन को कई तरह की समस्‍याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसमें कई तरह के प्रतिबंध भी शामिल है। हांगकांग मामले में अमेरिका ने प्रतिन‍िधि सभा में विधेक को पास करके उसने यह संकेत दे दिया है कि वहां हो रहे मानवाधिकार उल्‍लंघन के मामले को दरकिनार नहीं किया जा सकता है। एेसे में जाहिर है कि चीन इसे अपने आतंरिक मामले में अमेरिकी हस्‍तक्षेप मान सकता है। लेकिन यह तय है कि इस मामले में दोनों देशों के बीच रार होना तय है।

अमेरिकी एकशन पर चीन ने जताया सख्‍त एतराज

उधर, इस मामले में चीन ने अपनी तीखी प्रतिक्रिया दी है। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता गेंग शुआंग ने कहा है कि हांगकांग में मानवाधिकार या लोकतंत्र कोई मुद्दा नहीं है। हांगकांग की सबसे बड़ी समस्‍या कानून व्‍यवस्‍था को बनाए रखना है। हांगकांग सरकार के लिए यह सबसे बड़ी चुनौती है। हांगकांग में हिंसा रोकना बड़ी समस्‍या है। चीन ने अमेरिका को सख्‍त लहजे में चेतावनी दी है कि अमेरिका के इस बील को चीन सख्‍त ऐतराज करता है और इसका माकूल जबाव दिया जाएगा।

प्रतिनिधि सभा के सदस्‍यों ने कहा कि चीनी राष्‍ट्रपति से किया अाग्रह

अमेरिकी प्रतिनिधि सभा के सदस्‍यों ने कहा कि हम चीनी राष्‍ट्रपति और हांगकांग के मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी कैरी लैम से आग्रह कर रहे हैं कि वे ईमानदारी से लोगों के अधिकारों का सम्‍मान करें। वह प्रदर्शनकारियों को दिए गए अपने वादों को निभाए। प्रतिनिधि में रिपब्लिकन नेता ने कहा कि क्रिस स्मिथ ने कहा कि हांगकांग में नागरिक अधिकारों  की रक्षा होनी चाहिए। 

Posted By: Ramesh Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप