मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्‍ली जागरण स्‍पेशल। फॉक्‍स चैनल पर कुछ दिन पहले एक डॉक्‍यूमेंट्री प्रसारित की गई। यह डॉक्‍यूमेंट्री हॉलीवुड एक्‍ट्रेस मर्लिन मुनरो पर थी। इसमें कुछ ऐसी बातें सामने आईं जो अब से पहले अंधेरे में थीं। इस डॉक्‍यूमेंट्री में लीघ वीनर (Photographer Leigh Wiener), जो एक चर्चित फोटोग्राफ्रर थे और लाइफ मैगजीन के लिए फ्रीलांस करते थे, के बेटे को दिखाया गया था। वीनर का जिक्र यहां पर इसलिए भी जरूरी है क्‍योंकि वह एक मात्र फोटोग्राफ्रर थे जिन्‍होंने मुनरो के डेडबॉडी की फोटो कैमरे में कैद की थींं। इसके लिए उन्‍होंने गार्ड को रिश्‍वत के तौर पर स्‍कॉच दी थी। आपको बता दें मुनरो का निधन 5 अगस्‍त 1962 को तड़के हुआ था लेकिन, उनका निधन कैसे हुआ यह आज तक रहस्‍‍य है। डॉक्‍यूमेंट्री के मुताबिक वीनर उन चंद लोगों में शुमार थे जिन्‍हें मुनरो की मौत की खबर थी।

फोटो लेने के लिए रिश्‍वत के तौर पर दी स्‍कॉच  
वीनर ने मुनरो की डेडबॉडी की फोटो लेने में करीब पांच रील इस्‍तेमाल की थीं। यह फोटो ऐसे वक्‍त सामने आई हैं जब वीनर का भी निधन हो चुका है। उनके बेटे के मुताबिक इन फोटो को लेने के लिए मॉरचरी के गार्ड को उन्‍होंने शराब की बोतल बतौर रिश्‍वत दी थी। इस दौरान उन्‍होंने दो फोटो खींची। इनमें से एक फोटो में उनके पांव की अंगुली मं टैग लगा था जिसको 81128 का नंबर दिया गया था। इसके अलावा एक दूसरी फोटो में मुनरो का चेहरा दिखाई दिया था। इसके अलावा कुछ दूसरी फोटो भी उन्‍होंने खींची थीं। इसको दुर्भाग्‍य ही कहा जाएगा कि बेहद कम उम्र में हॉलीवुड के शीर्ष पर अपनी पहचान बनाने वाली मुनरो की जब मौत हुई तो उनके जनाजे में शामिल होने वाले बेहद कम लोग थे। जीते जी जिस खूबसूरत चेहरे के आगे-पीछे गाडि़यों की लाइनें लगा करती थीं निधन के बाद बेहद खामोशी से उसको दफना दिया गया था। 

अमेरिकी राष्‍ट्रपति समेत मुनरो के कई से थे संबंध 
मुनरो हॉलीवुड की वो खूबसूरत एक्‍ट्रेस थीं जिनके कई लोगों से संबंध थे। कहा तो यहां तक जाता है कि राष्‍ट्रपति ज जॉन एफ केनेडी भी इसी फहरिस्‍त में आते थे। इतना ही इस बात की भी चर्चा हमेशा रही कि जिस रात मुनरो का निधन हुआ था उस रात केनेडी वहां उस कमरे में मौजूद थे। आपको बता दें कि मुनरो के निधन की सबसे पहली खबर उनके हाउसकीपर को लगी थी। वह अपने कमरे में मृत पाई गई थीं। उनके बैड के साथ रखे मेज पर दवाईयों की शीशी पूरी तरह से खाली थी। उनके एक हाथ में फोन का रिसीवर मौजूद था। करीब साढ़े पांच बजे उनकी बॉडी को कार में डालकर वेस्‍टवुड विलेज मॉरचरी ले जाया गया। यहां से साढ़े आठ बजे इसको ऑटोप्‍सी के लिए लॉस एंजेलिस कॉर्नर आफिस ले जाया गया। इसमें मौत की वजह को अधिक दवाओं का प्रयोग बताया गया था। इसमें मौत का समय 5 बजकर 25 मिनट बताया गया था। यहीं पर उनकी बॉडी को मॉरचरी की 33 नंबर स्‍टील की ड्राउर में रखा गया। यहीं पर मुनरो की फोटो खींचने के लिए वीनर को रिश्‍वत देनी पड़ी थी।  

कुछ सवाल बरकरार 
उनके निधन पर संदेह के बादल इसलिए भी गर्माए क्‍योंकि उनकी मौत के कुछ घंटे बाद ही उनकी चीजों को भी वहां से हटा दिया गया। वेस्‍टवुड मेमोरियल पार्क सिमेट्री में उनको दफनाया गया। मुनरो के कमरे से करीब एक दर्जन दवाई की बोतलें जांच के लिए ली गई थीं, लेकिन इनमें से कुछ का ही जिक्र रिपोर्ट में किया गया। उनकी फोटो लेने की इजाजत किसी को नहीं दी गई थी। उनकी अचानक मौत की खबर मिलने के साथ ही हर कोई हैरत में था। खासतौर पर मीडिया इसको लेकर अधिक उत्‍सुक था। लेकिन किसी को भी मुनरो के शव के पास आने की इजाजत नहीं दी गई थी। एबॉट एंड हास्‍ट कंपनी ने मुनरो की अंतिम यात्रा की जिम्‍मेदारी निभाई थी। उनके निधन के दो दिन बाद लाइफ मैगजीन के कवर पेज पर उनकी आखिरी जीती जागती इमेज प्रकाशित हुई थी। 

मुनरो का आखिरी मैकअप सबसे मुश्किल काम
मुनरो के निधन को कई लोगों ने झकझोर दिया था। इनमें से एक उनके मैकअप आर्टिस्‍ट एलन सैंडर भी थे। सैंडर को मुनरो ने एक बार कहा था कि यदि उनकी मौत सैंडर से पहले हुई तो वह उनका मैकअप कर उन्‍हें अंतिम विदाई देंगे। ऐसा हुआ भी लेकिन सैंडर के लिए यह मैकअप करना जीवन का सबसे मुश्किल काम था। आपको बता दें कि मुनरो को दफनाने की कोई फोटो नहीं खींची गई थी। 8 अगस्‍त 1962 को वेस्‍टवुड मेमोरियल पार्क में मुनरो को दफना दिया गया। इसका पूरा जिम्‍मा मुनरो के एक्‍स हसबैंड डीमेगियो ने उठाया था। 

अपनी नशीली आंखों के मशहूर थीं मुनरो 
मुनरो अपने चेहरे की मादकता, नशीली आंखे और होठों की खूबसूरती के लिए प्रसिद्ध थीं। मुनरो का जन्म 1 जून 1926 को लॉस एंजिल्स (अमेरिका) में हुआ था। उनका बचपन बेहद अभाव में बीता था। इतना ही नहीं यहां पर उनका शोषण भी हुआ । जब वह मॉडलिंग की दुनिया में आयीं, तो उन्होंने वहां के अनुभव से काफी कुछ सीख ली 16 वर्ष की अवस्था में मुनरो का विवाह जिम डोहार्टी से हुआ, किन्तु यह अधिक दिनों तक नहीं चल पाया । इसके बाद हुए उन्‍होंने दोबारा भी विवाह किया लेकिन उनका वैवाहिक जीवन कभी सफल नहीं रहा। फिल्मों में आने से पूर्व वह कैलेण्डर गर्ल के रूप में प्रसिद्धि पा चुकी थीं ।

इमरान के नए पाकिस्‍तान में लोगों को खाने के लाले, ब्रेड, दूध और रोटी भी हुई महंगी
जम्‍मू कश्‍मीर पर एक बार फिर चौंकाएगा पीएम मोदी का फैसला, किसी को नहीं होगा अंदाजा 
जम्‍मू कश्‍मीर पर शोर मचाने वालों ने इमरान को ही बाहरी बताकर खुद ही खोली अपनी पोल
दुनिया को है डर कहीं चीन हांगकांग में भी न दोहरा दे थियानमेन चौक की कहानी 
झाड़ू भी लगाता है और पाक के छक्के भी छुड़ाता है, देखें PM मोदी के कारनामे, दुनियाभर में हुई चर्चा   

Posted By: Kamal Verma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप