मिनीपोलिस, एजेंसियां। पुलिस हिरासत में एक अश्वेत व्यक्ति जार्ज फ्लॉयड (46) की मौत पर शुरू हुई हिंसा का दायरा और व्यापक होकर अमेरिका के कई बड़े शहरों तक फैल गया है। लगातार चौथे दिन कई शहरों में प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच जबर्दस्त भिड़ंत हुई। प्रदर्शनकारियों ने कई जगह आगजनी की। वाहनों में तोड़फोड़, आगजनी के साथ सरकारी संपत्ति को नुक्सान पहुंचाने का सिलसिला लगातार चलता रहा। 

प्रदर्शनकारियों के जमावड़े पर कुछ देर व्हाइट हाउस बंद करना पड़ा

प्रदर्शनकारियों के तेवर देखकर लग रहा है कि हाल फिलहाल हिंसा थमने के आसार नहीं है। हिंसा को काबू करन के लिए कई जगह नेशनल गार्ड तैनात कर दिए गए हैं। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सेना को भी तैयार रहने को कहा दिया है। जरूरत पड़ने पर सेना चार घंटे के नोटिस पर मोर्चा संभाल लेगी। देश की राजधानी वाशिंगटन डीसी तक इस मामले की तपिश महसूस की गई। लफायत चौक पार्क पर प्रदर्शनकारियों के जमा होने पर कुछ देर के लिए व्हाइट हाउस बंद कर दिया गया। प्रदर्शनकारियों के हटने के बाद व्हाइट हाउस में आमदरफ्त शुरू हुई। हालांकि थोड़ी देर बाद प्रदर्शनकारी फिर वहीं जमा हो गए। 

जगह-जगह पुलिस से टकराव व आगजनी की घटनाओं से लोग दहले

डेट्रॉयट में तो प्रदर्शन कर रहे लोगों पर एसयूवी में बैठे किसी शख्स ने गोलियां चलाई, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई। ओकलैंड और कैलिफोर्निया में प्रदर्शन के दौरान गोली चलने से दो पुलिसकर्मियों के घायल होने की खबर है। उधर, पेंटागन ने शुक्रवार को कदम उठाते हुए सेना को मिनीपोलिस में तैनाती के लिए तैयार करने का आदेश दे दिया है।

वाशिंगटन डीसी, अटलांटा, फिनिक्स, डेनवर और लॉस एंजिलिस समेत कई शहरों में हिंसा 

फ्लॉयड की मौत के खिलाफ प्रदर्शन देशभर में फैल गया और वाशिंगटन डीसी, अटलांटा, फिनिक्स, डेनवर और लॉस एंजिलिस समेत कई शहरों में इसने हिंसक रूप ले लिया। इन शहरों में हजारों प्रदर्शनकारियों के हाथों में पोस्टर थे, जिन पर लिखा था, 'उसने कहा, मैं सांस नहीं ले पा रहा हूं। जॉर्ज के लिए न्याय।' प्रदर्शनकारी 'न्याय नहीं तो शांति नहीं' के नारे लगा रहे थे। अटलांटा में शांतिपूर्ण प्रदर्शन के कुछ घंटे बाद, कुछ प्रदर्शनकारी अचानक हिंसक हो गए, पुलिस की कार तोड़ने लगे, एक कार को आग लगा दी।

सीएनएन मुख्यालय में लोगों को स्प्रे से पेंट कर दिया और एक रेस्तरां में घुस गए। भीड़ ने अधिकारियों पर पानी की बोतलें फेंकी और नारे लगाए, 'नौकरी छोड़ो। 'प्रदर्शनकारियों ने वाशिंगटन डीसी स्थित कुछ सरकारी भवनों में भी घुसने की कोशिश की। कुछ प्रदर्शनकारियों को अमेरिकी सीक्रेट सर्विस के जवानों ने पकड़ लिया, लेकिन बाद में उन्हें छोड़ दिया गया। प्रदर्शनकारियों ने सीएनएन सेंटर के अंदर पटाखे भी फेंके। 

ट्रंप के ट्वीट की वाशिंगटन के मेयर ने खिल्ली उड़ाई 

प्रदर्शनकारियों के व्हाइट हाउस के करीब पहुंचने से भन्नाए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ट्वीट कर कहा कि प्रदर्शनकारी और करीब आते तो उनका स्वागत खौफनाक कुत्तों और खतरनाक हथियारों से किया जाता। इस पर जवाबी पलटवार करते हुए वाशिंगटन डीसी के मेयर म्युरिएल बाउजर ने कहा कि मुझे तो वहां कोई खौफनाक कुत्ता या खतरनाक हथियार नहीं दिखाई दिया। वहां एक डरा हुआ शख्स जरूर दिखाई दिया। वे (ट्रंप) जब दीवारों के पीछे छिपे खड़े थे, तब मैं लोगों को उनका अधिकार दिलाने के लिए उनके साथ खड़ा था। 

आरोपित अधिकारी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

मिनीपोलिस के उस श्वेत अधिकारी डेरेक चाउविन को शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया गया, जिसने अपने घुटने से अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड के गले को दबाया था, जिससे उसकी मौत हो गई थी। आरोपित चाउविन पर हत्या का आरोप लगाया गया है। अश्वेत फ्लॉयड को एक दुकान में नकली बिल का इस्तेमाल करने के संदेह में गिरफ्तार किया गया था। चाउविन के साथ ही उन तीन अन्य अधिकारियों को भी बर्खास्त कर दिया गया जो घटनास्थल पर मौजूद थे। हत्या का दोषी मिलने पर चाउविन को 12 साल से अधिक जेल की सजा भुगतनी पड़ सकती है। 

ट्रंप बोले, मेरा यह मतलब नहीं था

शुक्रवार को मिनीपोलिस में भीड़ द्वारा थाना फूंकने के बाद ट्रंप ने एक ट्वीट किया था, जिसमें उन्होंने कहा था, 'वेन द लूटिंग स्टार्ट, शूटिंग स्टार्ट'। सोशल मीडिया पर इस ट्वीट की आलोचना के बाद शनिवार को उन्होंने सफाई दी। ट्रंप ने कहा कि इसका गलत मतलब निकाला गया। उन्होंने कहा कि जब लूटपाट शुरू होती है तो पुलिस गोली चलाती है और निर्दोष लोग मरते हैं।

ट्रंप ने शुक्रवार को मिनीपोलिस में प्रदर्शन कर रहे लोगों को ठग कहा था। वह इसका भी बचाव करते दिखे। उधर, पुलिस हिरासत में अश्वेत व्यक्ति की मौत के मामले में डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जो बिडेन ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि इस एक पाप की वजह से हमारे देश पर अक्सर दाग लगता है। 

हमलावर अश्वेत ट्रांसजेंडर को पुलिस ने मौत के घाट उतारा

फ्लोरिडा के टालाहसी शहर में अश्वेत ट्रांसजेंडर टोनी मैकडैड को पुलिस द्वारा गोली मारकर मौत के घाट उतारे जाने का मामला प्रकाश में आया है। इस पर पड़ोसी को चाकू घोंपकर घायल करने और पकड़े जाने के दौरान अधिकारी पर बंदूक तानने का आरोप था। फेसबुक में टोनी को जहां पुरुष बताया जा रहा है वहीं स्थानीय एलजीबीटीक्यू समूह उसे ट्रांसजेंडर बता रहा है। टालाहसी के पुलिस प्रमुख ने कार्रवाई करने वाले अधिकारी की पहचान तो नहीं बताई, लेकिन वह श्वेत है। पुलिस प्रमुख ने कहा कि इस बात का कोई संकेत नहीं है कि फाय¨रग किसी भी तरह से नस्ली तौर पर प्रेरित थी।

 

Posted By: Arun Kumar Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस