कीव, रायटर। जर्मनी में हो रहे जी-7 शिखर सम्मेलन से कुछ घंटे पहले रविवार को रूस ने यूक्रेन की राजधानी कीव पर मिसाइलों से हमला किया। जी 7 देशों की बैठक में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन सहित सात बड़ी अर्थव्यवस्था वाले देशों के नेता रूस पर नए प्रतिबंध लगाने पर विचार करेंगे। इस बैठक में विशेष आमंत्रित सदस्य के रूप में भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी हिस्सा ले रहे हैं। हफ्तों बाद कीव पर हुए रूसी हमले में शहर के मध्य भाग में सुबह के समय चार धमाके सुनाई दिए। इसके बाद राजधानी के दक्षिणी हिस्से में दो धमाके सुने गए।

दबाव बढ़ाने की होगी कोशिश 

राष्ट्रपति जेलेंस्की के प्रशासनिक कार्यालय के प्रमुख आंद्रेई यरमक ने कहा है कि इन हमलों से एक रिहायशी इमारत और बच्चों के एक स्कूल को नुकसान हुआ है। यूक्रेन के पुलिस प्रमुख इहोर क्लीमेंको ने बताया है कि हमलों में पांच लोग घायल हुए हैं। रूसी हमले के खिलाफ शुरू से यूक्रेन के साथ खड़े अमेरिका और यूरोपीय देश आने वाले दिनों में रूस पर दबाव बढ़ाने के लिए नई रूपरेखा पर विचार करेंगे। वे रूस के जवाबी कदमों से बढ़े ईंधन और खाद्यान्न मूल्यों पर भी चर्चा करेंगे।

जानसन ने की एकजुटता की अपील  

जी 7 नेताओं की बैठक में शामिल होने जर्मनी पहुंचे ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जानसन ने कहा, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के खिलाफ समन्वित प्रतिरोध और एकजुटता बनाए रखनी होगी। रूस के खिलाफ कार्रवाई से पीछे हटने का मतलब पुतिन की जीत होगी। यूक्रेन के बड़े हिस्से पर रूस का कब्जा होगा। हमलों का दायरा बढ़ना होगा। पुतिन की जीत की कीमत बहुत भारी होगी।

रूस ने कहा, स्वतंत्र राष्ट्र बनने जा रहा डोनबास

सीविरोडोनेस्क की जीत के बाद रूस ने कहा है कि डोनबास (लुहांस्क और डोनेस्क प्रांत) का इलाका स्वतंत्र राष्ट्र है। इस राष्ट्र के गठन की शुरुआत 2014 में हो गई थी। इसी साल फरवरी में उसे औपचारिक मान्यता दे दी गई। अब यह राष्ट्र स्वतंत्र होने जा रहा है। रूसी सेना का अगला निशाना सीविरोडोनेस्क का पड़ोसी शहर लिसिचांस्क है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने कहा है कि सीविरोडोनेस्क सहित उन सभी शहरों को वापस लिया जाएगा जिन पर रूसी सेना ने कब्जा किया है। 

Edited By: Krishna Bihari Singh