लंदन, रायटर। यूक्रेन को लेकर बने तनाव के बीच ब्रिटेन ने आरोप लगाया है कि रूस यूक्रेन में अपनी मर्जी वाली कठपुतली सरकार बनाने के षडयंत्र पर कार्य कर रहा है। अगर रूस ने ऐसा किया तो उस पर कड़े आर्थिक प्रतिबंध लगाए जाएंगे। रूस के विदेश मंत्रालय ने इस तरह के किसी षडयंत्र से इन्कार किया है। मंत्रालय ने कहा है कि ब्रिटेन और नाटो जान-बूझकर यूक्रेन को लेकर तनाव बढ़ा रहे हैं। इस बीच वेटिकन सिटी में पोप फ्रांसिस ने रविवार को यूक्रेन में शांति के लिए प्रार्थना की और मतभेदों को बातचीत के जरिये सुलझाने की संबद्ध पक्षों से अपील की।

...तो झेलने होंगे कड़े आर्थिक प्रतिबंध

लंदन में ब्रिटिश उप प्रधानमंत्री डोमिनिक राब ने स्काई न्यूज से साक्षात्कार में कहा कि रूस यूक्रेन पर हमला कर वहां की सरकार को हटाना चाहता है। वह यूक्रेन में अपनी मर्जी वाली कठपुतली सरकार नियुक्त करना चाहता है। अगर रूस ने ऐसा कोई प्रयास किया तो उसे कड़े आर्थिक प्रतिबंध झेलने होंगे। ब्रिटेन में उठी चर्चा के बीच यूक्रेन के विपक्ष के नेता पूर्व सांसद येवहेन मुरायेव का नाम आया है। ब्रिटेन के विदेश मंत्रालय के अनुसार रूस मुरायेव को यूक्रेन का राष्ट्रपति बनाना चाहता है।

सुबूत सार्वजनिक करने से इन्कार

मुरायेव को पश्चिम विरोधी नेता माना जाता है। ब्रिटेन ने इस खुफिया जानकारी के सुबूत सार्वजनिक करने से इन्कार कर दिया है। विदित हो कि नाटो (उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन) में शामिल ब्रिटेन ने हाल ही में विभिन्न तरह की दो हजार मिसाइलें और सैन्य प्रशिक्षकों का दल यूक्रेन भेजा है।

रूस की रणनीति से चिंता

अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की प्रवक्ता एमिली हार्न ने कहा है कि रूस की यूक्रेन में कठपुतली सरकार बैठाने की साजिश गहरी चिंता में डालने वाली है। अपने भविष्य के बारे में फैसला करने का अधिकार यूक्रेन के लोगों का है। लोकतंत्रिक तरीके से होने वाले चुनाव के जरिये वे यह कार्य करें। इस अधिकार की रक्षा के लिए अमेरिका और उसके सहयोगी यूक्रेन की जनता के साथ हैं। 

Edited By: Krishna Bihari Singh