वाशिंगटन एजेंसी। अमेरिका में अश्‍वेत जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस कस्‍टडी में मौत के बाद नस्‍लीय हिंसा में प्रदर्शनकारियों ने स्‍मारकों एवं मुर्तियों को निशाना बनाया था। बड़ी संख्‍या में स्‍मारकों एवं मुर्तियों को क्षतिग्रस्‍त किया गया था। नस्‍लीय प्रदर्शन शांत होने के बाद अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने गुरुवार को कहा है कि उन्‍होंने देश के स्‍मारकों और मुर्तियों को बर्बरता से बचाने के मकसद से एक कार्यकारी आदेश पर हस्‍ताक्षर किए हैं। यह कार्यकारी आदेश बहुत मजबूत है। इससे अमेरिकी स्‍मारकों एवं मुर्तियों को संरक्षण मिलेगा। हालांकि, अभी व्हाइट हाउस ने कार्यकारी आदेश का विवरण जारी नहीं किया है। 

वेटरन्स मेमोरियल प्रोटेक्शन एक्ट को मजबूत करेगा नया अध्‍यादेश 

गौरतलब है कि अमेरिका में स्‍मारकों, मुर्तियों एवं पट्टिकाओं की सुरक्षा और संरक्षण के लिए 2003 में पारित वेटरन्स मेमोरियल प्रोटेक्शन एक्ट पारित किया गया था। इस एक्‍ट के तहत ऐतिह‍ासिक धरोहरों की क्षति करना कानूनी रूप से अपराध माना गया है। एक्‍ट के तहत दोष स‍िद्ध होने पर दोषी को जुर्माना और दस साल की सजा का प्रावधान है। ट्रंप ने कहा कि यह अध्‍यादेश मौजूदा कानून और अधिक बल प्रदान करेगा।

कठोर प्रावधान के दिए थे संकेत 

एक सप्‍ताप पूर्व राष्‍ट्रपति ट्रंप ने यह संकेत दिया था कि वह जल्‍द ही स्‍मारकों एवं मुर्तियों की सुरक्षा के लिए एक सख्‍त अध्‍यादेश तैयार कर रहे हैं। उन्‍होंने यह कदम तब उठाया जब जॉर्ज फ्लॉड की मौत के बाद प्रदर्शनकारियों ने व्‍हाइट हाउस में स्‍थापित पूर्व राष्‍ट्रपति एंड्रयू जैक्‍सन की मुर्ति को क्षतिग्रस्‍त करने का प्रयास किया था। उन्‍होंने कहा था मुझे बस अमेरिकी स्‍मारकों एवं मुर्तियों की रक्षा करने के लिए एक मजबूत कार्यकारी आदेश पर हस्‍ताक्षर करना है। इस कृत्‍य को आपराधिक हिंसा की श्रेणी में रखने के संकेत दिए थे। उन्‍होंने कहा कि अगर कोई संघीय स्‍मारकों की क्षति करता है तो उसे बस लंबी जेल की सजा होनी चाहिए।

जॉर्ज की मौत के बाद अमेरिका में शुरू हुआ बुतों को गिराने का सिलसिला 

  • जॉर्ज की मौत के बाद अमेरिका में बुतों को गिराने का सिलसिला शुरू हुआ था। प्रदर्शनकारियों द्वारा जेनिफर डेविस की मूर्ति को तोड़कर नीचे गिरा दिया था।
  • वर्जीनिया में क्रिस्टोफर कोलंबस की मूर्ति को तोड़कर सिटी लेक में फेंक दिया गया था।
  • पेडस्टल जहां कभी राफेल सेम्स की मूर्ति खड़ी थी, अब खाली है।
  • मेयर सैंडी स्टिम्पसन ने एक ट्वीट में बताया था कि शहर में 5 जून शुक्रवार को तड़के ही कॉन्फेडरेट एडमिरल राफेल सेम्स की प्रतिमा को हटाकर सुरक्षित स्थान पर ले जाया गया है।
  • प्रदर्शनकारियों द्वारा स्मारक ढहाए जाने के बाद विवादित एडवर्ड कार्मेक की मूर्ति को शहर के कैपिटल मैदान से दूर ले जाया गया था। बता दें कि एडवर्ड कार्मेक पूर्व अमेरिकी सीनेटर, अखबार के मालिक और इडा बी वेल्स जैसे नागरिक अधिकारों के पैरोकारों पर हमला करने के लिए जाने जाते हैं।   

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस