वाशिंगटन, द न्यूयॉर्क टाइम्स। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने तुर्की और कुर्द लड़ाकों की तुलना मैदान में खेल रहे बच्चों से की है, जो लड़ाई के बाद ही सुलह के रास्ते पर आते हैं। कुर्द लड़ाकों के कब्जे वाले उत्तर-पूर्वी सीरिया में तुर्की के सैन्य अभियान से दोनों पक्षों में युद्ध का खतरा मंडरा रहा है।

तुर्की के इस हमले के लिए अमेरिका की विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी ट्रंप को जिम्मेदार ठहरा रही है। वह सीरिया से अमेरिकी सैनिक वापस बुलाने और कुर्द का साथ छोड़ने के लिए ट्रंप की आलोचना कर रहे हैं।

क्या अमेरिका सरकार ने ही दी है तुर्की को हरी झंडी! 

कई रिपोर्ट में यह भी कहा जा रहा था कि हमला करने के लिए अमेरिकी सरकार ने ही तुर्की को हरी झंडी दी थी। ट्रंप प्रशासन ने इन दावों को खारिज करते हुए तुर्की पर कई प्रतिबंध लगाने की घोषणा की है।

डलास में गुरुवार को एक चुनावी रैली में ट्रंप के सुर बदले नजर आए। उन्होंने ना सिर्फ सीरिया से सैनिक हटाने के निर्णय का बचाव किया बल्कि तुर्की को हमला करने का अवसर देने के लिए अपनी पीठ भी थपथपाई। उनके अनुसार ऐसा करने से ही दोनों पक्ष समझौते के लिए राजी हो सकते थे।

ट्रंप बोले, कई मायनों में लाभदायक रही हिंसा

करीब 20 हजार समर्थकों को संबोधित करते हुए ट्रंप ने कहा, 'पिछले हफ्ते हुई हिंसा कई मायनों में लाभदायक ही रही। मैंने जो किया वह गैरपरंपरागत था। लेकिन कई बार आपको दो देशों को भी बच्चों की तरह आपस में लड़ने के लिए छोड़ना पड़ता है। इसके बाद ही आप उन्हें अलग कर सुलह कराने की कोशिश करते हैं।'

यह भी पढ़ें: PM Modi in Haryana: पाक पर बड़े कदम का दिया संकेत, बोले- यह मोदी है जो ठान लेता है करके रहता है

यह भी पढ़ें: Haryana election 2019: राहुल गांधी के हेलीकॉप्टर की रेवाड़ी में इमरजेंसी लैंडिंग

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस