वाशिंगटन, एजेंसी । अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप President Donald Trump ने एक बार फ‍िर तुर्की को सख्‍त चेतावनी दी है। ट्रंप ने कहा कि अगर तुर्की  बाज नहीं आया तो वह बर्बाद होने के लिए तैयार रहे। अमेरिका तुर्की पर सख्‍त प्रतिबंध impose tough sanctions on Turkey लगाने की योजना बना रहा है। ट्रंंप ने रविवार को अपने एक ट्वीट में कहा कि तुर्की पर सीरिया Syria के खिलाफ युद्ध अपराध का मामला बनता है।  

उधर, सत्‍ता पक्ष के साथ अमेरिका में डेमोक्रेट्स पार्टी ने भी तुर्की के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। इसलिए अब  यह तय माना जा रहा है कि अगर तुर्की ने सीरिया पर अपने हमले जारी रखा तो उस पर सख्‍त कार्रवाई के लिए अमेरिका तैयार है।  

बता दें क‍ि बुधवार को तुर्की ने सीरियाई कुर्द सैन्‍य बल या पीपल्‍स प्रोटेक्‍शन यूनिट्स के खिलाफ सैन्‍य अभियान शुरू किया था। तुर्की का मकसद कुर्दिश पीपुल्स प्रोटेक्शन यूनिट्स को अपनी सीमा से दूर रखने के लिए एक बफर जोन स्थापित करना बताया है। तुर्की कुर्द लड़ाकों को आतंकवादी मानता है। 

तुर्की ने सीरिया के सीमांत इलाके में कब्‍जा किया

एक रिपोर्ट के मुताबिक, तुर्की की सेना ने सीरिया के सीमांत कस्बे पर कब्जा जमा लिया है। सेना ने अपने जारी एक बयान मे कहा है कि उसने कुर्द लड़ाकों के खिलाफ लड़ाई के चौथे दिन रास अल-अयन कस्बे के केंद्र पर कब्‍जा जमा लिया है। बता दें कि कुछ दिन पहले ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने सीरिया से सेना हटाने की घोषणा की थी, जिसके बाद तुर्की ने कुर्द लड़ाकों पर हमले शुरू कर दिए हैं। 

फ्रांस-जर्मन और कई यूरापीय देशों ने लगाया प्रतिबंध 

सीरिया में कुर्द लड़ाकों के खिलाफ तुर्की के हमले को लेकर फ्रांस के बाद जर्मन ने भी हथियारों के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया है। कई यूरोपीय देशों में तुर्की के खिलाफ आंदोलन तेज हो गया है। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि तुर्की इन लड़ाकों को आतंकवादियों की तरह देखता है। 

फ्रांस का तर्क है कि तुर्की के खिलाफ प्रतिबंध इसलिए लगाया गया क्‍योंकि वह इन हथियारों का इस्‍तेमाल सीरिया के खिलाफ कर सकता है। फ्रांस के इस बयान के बाद जर्मनी का भी बयान सामने आया है कि उसने भी तुर्की पर प्रतिबंध लगा दिया है। बता दें कि जर्मनी तुर्की का मुख्‍य हथियार आपूर्तिकर्ता है। इसके अलावा फ‍िनलैंड, नार्वे, नीदरलैंड ने पहले ही तुर्की पर प्रतिबंध लगा चुके हैं।       

यह भी पढ़ें: सऊदी क्राउन प्रिंस की नाराजगी और विपक्ष के होने वाले प्रदर्शन से हिल गई है इमरान की सियासी जमीन 

यह भी पढ़ें: जानें- ब्रिटेन का Moon Rover भारत के Lander Vikram से कितना है अलग, चांद पर भेजने की तैयारी   

 

Posted By: Ramesh Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप