वाशिंगटन, रायटर। शरणार्थियों की बढ़ती समस्या के चलते अमेरिकी सरकार ने मध्य अमेरिकी देशों अल सल्वाडोर, ग्वाटेमाला और होंडुरास को मिलने वाली सहायता में कटौती की है। इससे पहले अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ने इन देशों की ओर से अमेरिका में आ रहे शरणार्थियों पर नाराजगी जताई थी। उन्होंने अमेरिका-मेक्सिको सीमा को बंद करने की चेतावनी भी दी है।

इन तीनों देशों से अमेरिका में शरण मांगने वालों की संख्या हाल के दिनों में तेजी से बढ़ी है। ट्रंप ने आरोप लगाया था कि इन देशों ने शरणार्थियों का कारवां तैयार किया है और उन्हें उत्तर की तरफ से अमेरिका में भेज रहे हैं।

उन्होंने कहा था कि अगर अमेरिका में आ रहे शरणार्थियों पर मेक्सिको लगाम नहीं लगाएगा, तो उसके साथ लगी सीमा बंद कर दी जाएंंगी। ट्रंप के इस बयान के बाद नियमित तौर पर मेक्सिको सीमा से अमेरिका आने-जाने वाले छात्रों और कर्मचारियों के बीच भी अनिश्चितता का माहौल बन गया है।

इस बीच विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि इन तीनों देशों को मिल रही सहायता खत्म करने की दिशा में काम किया जा रहा है। डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से राष्ट्रपति पद के दावेदार बेटो ओरुर्क ने ट्रंप की प्रवासी नीति को डराने और बांटने वाली नीति बताते हुए उनके बयान की आलोचना की है।

Posted By: Prateek Kumar