नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]। कभी-कभी अचानक से ऐसी अजीबोगरीब स्थिति पैदा हो जाती है कि उससे निपटना अपने आप में एक चुनौती सरीखा होता है। उस समय में वैसी स्थिति से बचने के लिए जुगाड़ ही एकमात्र सहारा बचता है। कुछ दिन पहले ऐसा ही एक वाक्या सामने आया। डेलीमेल नामक वेबसाइट ने ऐसी खबर को प्रमुखता से कैरी किया है। 

बीबीसी न्यूज चैनल में दो एंकर बुलेटिन पढ़ने की तैयारी कर रहे थे। सबकुछ रेडी हो चुका था। एंकर अपनी-अपनी कुर्सियों पर बैठ चुके थे। कंट्रोल रुम से बुलेटिन एयर होने ही वाला था कि लेडी एंकर की ड्रेस पीछे से फट गई। एंकर ने चिप वाली ड्रेस पहनी हुई थी, चिप के पास से पूरी ड्रेस फट गई। ऐसे में उनके सामने अजीब स्थिति पैदा हो गई। 

सहयोगियों ने लगाया टेप और बुलडॉग क्लिप 

जैसे ही लेडी एंकर को अपनी ड्रेस फटने का अहसास हुआ उन्होंने तुरंत ही वहां मौजूद लोगों से मदद करने को कहा। कंट्रोल रूम और स्टूडियो में मौजूद लोग तुरंत वहां पर पहुंच गए। किसी ने उनकी ड्रेस पर क्लिप लगाई तो किसी ने टेप लगाकर उसे व्यवस्थित किया। उसके बाद वो किसी तरह से न्यूज पढ़ने के लिए तैयार हो पाई।

दर्शकों को नहीं लगा अंदाजा 

जो लोग बीबीसी के इस बुलेटिन और दोनों न्यूज एंकर को खबर पढ़ते हुए देख रहे थे उनको जरा भी अंदाजा नहीं था कि उनके सामने जो लेडी एंकर बैठी हुई है उनके पीछे ड्रेस का क्या हाल होगा। उनके साथ कुछ देर पहले क्या हो चुका है।

कभी नहीं था ऐसा अंदाजा 

न्यूज रीडर का नाम बीकॉन है। उन्होंने कहा कि उन्हें कभी ऐसा अंदाजा ही नहीं था कि उनकी ड्रेस इस तरह फट जाएगा। उन्होंने बताया कि जब ड्रेस पहन रही थी तो वो थोड़ी टाइट जरूर थी। उसकी जिप भी थोड़ी टाइट बंद हुई थी मगर वो अचानक से फट जाएगी ऐसा सोचा भी नहीं था। जब ये बेतरतीब तरीके से फट गई तो उसकी जिप को खोलने में ही आंधे घंटे से अधिक का समय लग गया। बीकॉन ने बताया कि ये ड्रेस उनको उनकी मॉ ने उपहार में दी थी। वो इसे पहनने के लिए बहुत उत्सुक थीं। 

बीबीसी न्यूज रीडर बीकॉन और डेविड को पढ़ना था बुलेटिन 

बीबीसी की सुश्री बीकॉन और डेविड गार्मस्टोन को शाम को 6.30 बजे का बुलेटिन पढ़ना था। दोनों तैयारी कर रहे थे। स्टूडियो पहुंच चुके थे। बीकॉन ने अपनी ड्रेस बदल ली थी और वो स्टूडियो के अंदर पहुंच गई थी। कॉलर माइक आदि लगाकर दोनों रेडी हो रहे थे, इसी दौरान 6.10 पर बीकॉन को अपनी ड्रेस पीछे से फटने का अंदेशा हुआ।

उसके बाद उन्होंने बाकी लोगों को बुलाया और मदद करने को कहा। फटी हुई ड्रेस को पीछे से कवर करने के लिए टेप और अन्य चीजें लगाई गई, उसके बाद बीकॉन बुलेटिन पढ़ सकी। इस दौरान डेविड उनको हौसला देते रहे जिससे वो घबराएं नहीं और किसी तरह से बुलेटिन पर असर न पड़ने पाए। बुलेटिन ऑनएयर होने से पहले प्रोडयूसर और अन्य लोग बीकॉन की फटी ड्रेस को ठीक करने में ही लगे रहे।  

Posted By: Vinay Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस