सियोल, आइएएनएस। दक्षिण कोरिया, जापान और अमेरिका की सेना ने बुधवार को उत्‍तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम को रोकने के लिए उस पर दबाव बढ़ाने पर जोर दिया। गौरतलब है कि अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप द्वारा उत्‍तर कोरिया को पूरी तरह से तबाह करने की चेतावनी दिए जाने के एक दिन बाद यह बयान सामने आया है। उत्‍तर कोरिया ने अपने परमाणु परीक्षण से कई देशों खास तौर से इन तीन देशों की नाक में दम कर डाला है।

दक्षिण कोरिया के अंतरराष्‍ट्रीय नीति मामलों के उप महानिदेशक पार्क चुल-क्‍युन, जापान के रक्षा मंत्रालय नीति के निदेशक टारो यामातो और पूर्व एशिया के लिए अमेरिकी कार्यवाहक उप सहायक रक्षा मंत्री एंड्रयू विंटरट्रिज ने वीडियो कॉन्‍फ्रेंस के जरिए त्रिपक्षीय वार्ता की। दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने इसकी पुष्टि की है।

वार्ता के दौरान उन्‍होंने उत्‍तर कोरिया के पिछले मिसाइल परीक्षण की तीव्रता पर विचार-विमर्श किया, जो 3700 किमी की दूरी तय करते हुए जापान के ऊपर से गुजरी थी। वहीं वे किम जोंग-उन प्रशासन पर अधिकतम दबाव बनाने और आपसी सैन्‍य सहयोग को मजबूत बनाने की जरूरत पर सहमत हुए।

आपको बता दें कि उत्‍तर कोरिया द्वारा हाईड्रोजन बम परीक्षण किए जाने के बाद संयुक्‍त राष्‍ट्र ने उस पर और कड़े प्रतिबंध लगाने का फैसला किया था। मगर उत्‍तर कोरिया ने तमाम वैश्विक दबावों व प्रतिबंधों को धता बताते हुए एक और मिसाइल परीक्षण कर अपना रुख साफ कर दिया। अब ऐसे में अमेरिका, जापान और दक्षिण कोरिया जैसे देशों ने उसे सबक सिखाने की ठान ली है।

यह भी पढ़ें: उत्तर कोरिया विवाद पर एक मंच पर आए तीस देशों के सैन्य अधिकारी

Posted By: Pratibha Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप