वाशिंगटन, प्रेट्र। अमेरिकी संसद के ऊपरी सदन सीनेट में 21 जनवरी को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की सुनवाई शुरू हो सकती है। यह जानकारी ट्रंप की रिपब्लिकन पार्टी के एक वरिष्ठ सांसद ने दी है। विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी के बहुमत वाले संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा ने गत 18 दिसंबर को महाभियोग प्रस्ताव पर मुहर लगाई थी।

ट्रंप के खिलाफ सत्ता के दुरुपयोग और संसद की कार्यवाही में रोड़ा अटकाने के आरोप

ट्रंप के खिलाफ सत्ता के दुरुपयोग और संसद की कार्यवाही में रोड़ा अटकाने के आरोप तय किए गए हैं। रिपब्लिकन पार्टी के बहुमत वाले ऊपरी सदन में अब यह तय होना है कि ट्रंप राष्ट्रपति पद पर बने रहेंगे या नहीं।

सीनेट 21 जनवरी को ट्रंप के खिलाफ महाभियोग पर सुनवाई शुरू कर सकती है

रिपब्लिकन सीनेटर जॉन कोर्निन ने सोमवार को पत्रकारों को बताया कि सीनेट 21 जनवरी को महाभियोग पर सुनवाई शुरू कर सकती है। प्रतिनिधि सभा से महाभियोग का प्रस्ताव मिलने के बाद सीनेट को सुनवाई प्रारंभ करने में कुछ दिन का समय लग सकता है। सीनेट में सुनवाई के नियम तय करने के लिए एक प्रस्ताव भी पारित किया जाएगा।

डेमोक्रेटिक पार्टी के चुनिंदा सदस्य सीनेट में ट्रंप के खिलाफ मजबूती से दलील रखेंगे

इस बीच खबर है कि प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी इसी हफ्ते प्रस्ताव सीनेट के पास भेज सकती हैं। न्यूयॉर्क टाइम्स अखबार के अनुसार, स्पीकर और डेमोक्रेटिक पार्टी की नेता पेलोसी आने वाले दिनों में सीनेट में अपनी पार्टी के ऐसे करीब छह सदस्यों का चयन करेंगी, जो ट्रंप को राष्ट्रपति पद से हटाने के लिए मजबूती से दलील रख सकें।

इस मामले में है महाभियोग

ट्रंप पर आरोप है कि उन्होंने गत वर्ष 25 जुलाई को यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोडिमिर जेलेंस्की से फोन पर बात की थी। इसमें उन्होंने जेलेंस्की पर इस साल नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में अपने संभावित डेमोक्रेट प्रतिद्वंद्वी जो बिडेन को बदनाम करने के लिए दबाव बनाया था।

बगैर सुनवाई आरोप खारिज करने के प्रयास पर रिपब्लिकन में विरोध

समाचार एजेंसी रायटर के अनुसार, सीनेट में ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की सुनवाई शुरू होने से पहले ही रिपब्लिकन पार्टी में विरोध के स्वर सुनाई पड़ने लगे हैं। पार्टी के कुछ सांसदों ने ट्रंप के खिलाफ लगाए आरोपों को बगैर सुनवाई खारिज करने के प्रयास का विरोध किया है। रिपब्लिकन सीनेटर मिट रोमनी ने कहा, 'मैं आरोपों को खारिज करने के प्रस्ताव का समर्थन नहीं करूंगा।'

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस