वाशिंगटन, एएफपी। एक अमेरिकी सीरियल किलर सैमुएल लिटिल ने 93 लोगों की हत्या करने का जुर्म कुबूल किया है। जांच एजेंसी एफबीआइ के अधिकारियों द्वारा की गई पूछताछ में उसने अपना अपराध स्वीकार कर लिया है। एफबीआइ के अनुसार, सीरियल किलर ने अधिकतर महिलाओं को ही अपना शिकार बनाया।

जघन्य अपराधों को दिया अंजाम 

वर्तमान में जेल में बंद 79 वर्षीय सैमुएल ने 1970 से 2005 के बीच इस तरह के अनेकों जघन्य अपराध को अंजाम दिया। उसके अपराधों की जांच कर कर रही एफबीआइ अभी तक सैमुएल से जुड़े हत्या के 50 मामलों को ही उजागर कर पाई है। जांच एजेंसी के मुताबिक, कई मामलों में अभी शव तक बरामद नहीं किए जा सके हैं। एफबीआइ ने सैमुएल के सनसनीखेज अपराधों को एक वेबसाइट पर दर्शाया है।

मुक्केबाजी में भी लिया था हिस्सा

जांच अधिकारियों का कहना है कि उपरोक्त सीरियल किलर का एक दूसरा नाम सैमुएल मैकडॉवेल भी है। वह पहले मुक्केबाजी में हिस्सा लिया करता था। 2012 में केंटुकी से गिरफ्तार सैमुएल को ड्रग्स मामले में कैलिफोर्निया जेल भेजा गया था। जेल में डीएनए जांच से पता चला कि उसने 1987 से 1989 के बीच तीन महिलाओं की हत्या की थी। इन्हीं मामलों में उसे 2014 में उम्रकैद की सजा सुनाई गई।

किशोरावस्‍था से शुरू किया अपराध  

उसके अपराधों का इतिहास किशोरावस्था में शुरू हुआ। उसके बाद अपराधों में दुकान से सामान उठाना, धोखाधड़ी, तोड़ना व घुसना और ड्रग्स जैसे मामूली अपराध थे। लिटिल हाई स्कूल स्‍कूल से बाहर निकल गया था। बाद में उसने अपने ओहियो के घर को छोड़ दिया। उसके बाद खानाबदोश जीवन जीता रहा। अमेरिकन सुरक्षा एजेंसी एफबीआई ने बताया कि वह शराब या ड्रग्स खरीदने के लिए पैसा इकट्ठा करने के लिए किसी शहर या कस्बे में दुकान से सामान उठा लेता था या चोरी करता था, लेकिन कभी भी एक जगह पर ज्‍यादा दिन रुकता नहीं था।

पलाजलों की रिपोर्ट के अनुसार वह कुछ ही दिनों में न्यू जर्सी से कैलिफोर्निया चला गया। वह पुलिस से भागता रहा। 1980 के दशक की शुरुआत में उस पर मिसिसिपी और फ्लोरिडा में महिलाओं की हत्या का आरोप लगा था, लेकिन डीएनए सबूतों का विश्लेषण करने की सीमित क्षमता के कारण अधिकारी उसके खिलाफ मुकदमा चलाने में असमर्थ थे।

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप