वाशिंगटन, एजेंसियां। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बुधवार को फिर दावा किया कि तीन नवंबर को हुए राष्ट्रपति चुनावों को उन्होंने जीत लिया है। साथ ही उन्होंने पूरे अमेरिका में चुनावी धांधली के आरोपों को भी दोहराया। ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, 'और मैंने चुनाव जीत लिया है। देशभर में चुनावी धांधली हुई है।' इसके साथ ही उन्होंने न्यूयार्क टाइम्स के अमेरिका के नक्शे के साथ एक ट्वीट को टैग किया जिसके मुताबिक पिछले चुनाव के मुकाबले इस बार उन्हें पूरे अमेरिका में करीब एक करोड़ वोट अधिक मिले हैं।

इसी श्रृंखला में न्यूयार्क टाइम्स के एक अन्य ट्वीट के मुताबिक नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन को पिछले चुनाव में उनकी ही पार्टी की प्रत्याशी हिलेरी क्लिंटन को मिले वोटों के मुकाबले 1.26 करोड़ वोट अधिक मिले हैं। देश के प्रमुख मीडिया समूहों ने पिछले हफ्ते बाइडन को राष्ट्रपति चुनाव का विजेता घोषित कर दिया था जब उन्होंने 538 सदस्यीय इलेक्टोरल कालेज में आवश्यक 270 इलेक्टोरल वोटों का आंकड़ा पार कर लिया था।

हालांकि ट्रंप ने हार मानने से इन्कार कर दिया है। उनका कहना है कि चुनाव वह जीते हैं। उन्होंने बड़े पैमाने पर चुनावी धांधलियों का आरोप लगाते हुए कई याचिकाएं भी दाखिल की हैं। एक अन्य ट्वीट में ट्रंप ने कहा, 'यह धांधलीपूर्ण चुनाव है। उन्होंने किसी भी रिपब्लिकन चुनाव पर्यवेक्षक को मतगणना कक्षों में जाने की अनुमति नहीं दी। असंवैधानिक।' एक ट्वीट में उन्होंने आरोप लगाया कि डेट्रोइल में निवासियों से ज्यादा वोट डाले गए। उन्होंने मिशिगन में जीत का दावा भी किया।

विस्कांसिन में पुनर्मतगणना की मांग

ट्रंप की प्रचार टीम ने विस्कांसिन में आंशिक पुनर्मतगणना की मांग की है। इसके लिए उन्होंने करीब 30 लाख डालर की राशि जमा करा दी है।

रिपब्लिकन की राय, ट्रंप जीते

समाचार एजेंसी रायटर के एक सर्वे के मुताबिक आधे से ज्यादा रिपब्लिकन मानते हैं कि ट्रंप सही तरीके से चुनाव जीत गए हैं, लेकिन चुनाव उनसे चुरा लिए गए हैं। वहीं सभी वोटरों में से 73 फीसद का मानना है कि बाइडन जीते हैं और सिर्फ पांच फीसद ट्रंप को विजयी मानते हैं।

ट्रंप ने चुनावों में धांधली का खंडन करने वाले अधिकारी को हटाया

डोनाल्ड ट्रंप ने उस शीर्ष चुनाव अधिकारी को बर्खास्त कर दिया है, जिसने उनके चुनाव में धांधली और मतदान में धोखाधड़ी के दावों को खारिज कर दिया था। ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, 'होमलैंड सिक्योरिटी विभाग में साइबर सिक्योरिटी एंड इंफ्रास्ट्रक्चर सिक्योरिटी एजेंसी (सिसा) के प्रमुख क्रिस क्रेब्स ने मतदान और अमेरिकी चुनावों को लेकर 'बेहद भेदभावपूर्ण' टिप्पणी की थी, इसी के चलते उन्हें बर्खास्त किया गया है।'

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस