वाशिंगटन, एजेंसी । राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप की भारत यात्रा के बाद राज्‍य के विदेश सचिव माइक पोम्पिओ ने एक बार फ‍िर कहा है कि नई दिल्‍ली और वाशिंगटन के बीच रिश्‍ते दो लोकतांत्रिक राष्‍ट्रों के बीच बेहतर संबंधों को दर्शाती है। पोम्पियो ने ट्रंप की टिप्पणी के साथ व्हाइट हाउस पोस्ट को फिर से ट्वीट किया, उन्‍होंने कहा कि दोनों देशों की लोकतांत्रिक परंपराएं दोनों देशों को एकजुट करती हैं।

विदेश सचिव ने कहा, हमारे साझा हितों हमें एक दूसरे से समीप लाते हैं

पोम्पिओ ने कहा हमारे साझा हितों हमें एक दूसरे से समीप लाते हैं। उन्‍होंने कहा कि राष्‍ट्रपति ट्रंप के नेतृत्‍व में हमारी साझेदारी और मजबूत होगी। उन्‍होंने कहा दोनों देशों की लोकतांत्रिक प्रक्रियाएं और परंपराएं एक दूसरे के रिश्‍ते के रिश्‍ते को और प्रगाढ़ करती हैं। उन्‍होंने कहा कि भारत की व्‍यक्तिगत स्‍वस्‍तंत्रा और कानून के शासन के प्रति निष्‍ठा इसे और प्रगाढ़ करती हैं। इस मौके पर ट्रंप ने व्‍हाइट हाउस की अपनी एक पोस्‍ट में प्रधानमंत्री नरेंद्रे मोदी के साथ उनकी बैठकों की चार फोटो साझा किया है।

वेल्‍स ने कहा, दोनों देशों के बीच साझा लक्ष्‍यों को आगे बढ़ाया

ट्वीट्स की इस श्रृंखला में दक्षिण और मध्‍य एशिया के कार्यवाहक सचिव एलिस जी वेल्‍स ने कहा है कि राष्‍ट्रपति ट्रंप की यात्रा के दौरान नई दिल्‍ली और वाशिंगटन के रिश्‍तो और मजबूत हुए हैं। इस सप्‍ताह दोनों देशों के बीच रिश्‍ते और प्रगाढ हुए हैं। वेल्स ने कहा ट्रंप की भारत यात्रा ने दोनों देशों के बीच साझा लक्ष्‍यों को आगे बढ़ाया है। भारत-प्रशांत समन्वय जैसे प्रमुख क्षेत्रों में आगे सहयोग के लिए मार्ग प्रशस्त किया किया है। 

अमेरिका-भारत ऊर्जा साझेदारी को आगे बढ़ाने के लिए प्रयास

वेल्‍स ने कहा कि हमने अमेरिका-भारत ऊर्जा साझेदारी को आगे बढ़ाने के लिए काफी प्रयास किए हैं। इसमें भारत के पेट्रोलियम क्षेत्रों को विकसित करने के लिए कदम उठाने के साथ सौर और पवन ऊर्जा को विकसित करना शामिल है। ऊर्जा उत्पादों के क्षेत्र में अमेरिकी आपूर्तिकर्ताओं जुड़ाव के लिए तत्पर हैं। उन्‍होंने कहा कि इससे बड़े सौदों के लिए मार्ग प्रशस्‍त होगा। इससे नए दशक और उससे आगे अमेरिका-भारत संबंधों को और शक्ति देंगे।

भारत के प्रमुख रक्षा साझेदार होने पर गर्व 

वेल्स ने कहा कि हम भारत के प्रमुख रक्षा साझेदार होने पर गर्व करते हैं। उन्‍होंने कहा कि निजी क्षेत्र की भागीदारी हमारी अर्थव्यवस्थाओं को मजबूत बनाती है, जैसा कि राष्ट्रपति ने घोषणा की है कि अमेरिका ने भारतीय सशस्त्र बलों को अमेरिका के बेहतरीन सैन्य हेलीकॉप्टर प्रदान करने के लिए रक्षा बिक्री में तीन बिलियन अमरीकी डालर से अधिक का सौदा किया है। उन्‍होंने कहा कि हम अपनी संप्रभुता के लिए एक स्‍वतंत्र खुले इंडो प्रशांत क्षेत्र की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं। हम मानव स्पेस फ्लाइट का समर्थन करने के लिए एक साथ काम कर रहे हैं । 

Posted By: Ramesh Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस