ह्यूस्टन, एजेंसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बड़ी संख्या में भारतीय अमेरिकी समुदाय को संबोधित करने के लिए शनिवार दोपहर को ह्यूस्टन पहुंच गए। उन्‍होंने ट्वीट किया ‘हाउडी ह्यूस्टन’... साथ ही कहा कि ह्यूस्टन में दोपहर में मौसम अच्छा है। इस गतिशील और ऊर्जावान शहर में अनेक कार्यक्रमों के प्रति आशान्वित हूं। प्रधानमंत्री ने अग्रणी ऊर्जा कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (CEOs) के साथ बैठक की। इस बैठक के बाद भारतीय कंपनी पेट्रोनेट और अमेरिकी कंपनी टेल्यूरियन के बीच हुए अहम समझौते का ऐलान किया गया।

ह्यूस्टन के होटल पोस्ट ओक में हुई ऊर्जा क्षेत्र के सीईओ के साथ बैठक में अमेरिकी कंपनी टेल्यूरियन और भारतीय कंपनी पेट्रोनेट के साथ लिक्विफाइड नेचुरल गैस (एलएनजी) के लिए मेमोरैंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए गए। इस समझौते के तहत पेट्रोनेट अमेरिका से सालाना 50 लाख टन लिक्विफाइड नैचरल गैस (एलएनजी) का आयात करेगी।  टेल्यूरियन और पेट्रोनेट ने इसके लिए ट्रैन्जैक्शन एग्रीमेंट को मार्च 2020 तक अंतिम रूप देने का लक्ष्य निर्धारित किया है। ज्ञात हो कि टेल्यूरियन ने फरवरी में पेट्रोनेट एलएनजी लिमिटेड इंडिया (पीएलएल) के साथ एमओयू साइन करके पीएलएल ड्रिफ्टवुड परियोजना में निवेश की संभावनाएं तलाशने का एलान किया था।

विदेश मंत्रालय ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी की अग्रणी ऊर्जा कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (CEOs) के साथ बैठक कामयाब रही। ऊर्जा सुरक्षा के लिए एक साथ मिलकर काम करने और भारत-अमेरिका के बीच साझा निवेश के अवसरों को बढ़ाने पर केंद्रित थी। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, ‘आते ही सीधे काम शुरू। प्रधानमंत्री मोदी ने ह्यूस्टन में ऊर्जा क्षेत्र के सीईओ के साथ एक सफल गोलमेज बैठक की। यह बैठक भारत और अमेरिका के बीच ऊर्जा सुरक्षा के लिए साथ मिल कर काम करने और साझा निवेश के अवसरों को बढ़ाने पर केंद्रित थी।  

Posted By: Krishna Bihari Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप