वाशिंगटन, प्रेट्र। अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा के इनसाइट लैंडर ने अपना पहला भूकंप मापी उपकरण मंगल की सतह पर स्थापित करने में सफलता पाई है। लैंडर द्वारा भेजी गई नई तस्वीरों में लाल ग्रह की सतह के अंदर होने वाली हलचल का पता लगाने वाला भूकंप मापक यंत्र वहां की सतह पर दिखाई दे रहा है। इनसाइट प्रोजक्ट की टीम ने इस सफलता को क्रिसमस का तोहफा बताया है।

बता दें कि मंगल ग्रह की सतह और वहां जीवन की संभावना का पता लगाने के लिए इस साल मई में इनसाइट लैंडर को लांच किया गया था। दो साल लंबे मिशन के लिए लांच किया गया यह रोवर बीते 26 नवंबर को मंगल की सतह पर उतरा था। उसके बाद से ही वैज्ञानिकों की टीम रोवर के साथ भेजे गए भूकंप मापक और ताप के प्रवाह को मापने वाले यंत्र (एचपी3) को सतह पर स्थापित करने में जुटे थे।

इनसाइट प्रोजेक्ट के प्रबंधक टॉम हॉफमैन का कहना है कि लैंडर के लिए तय किए लक्ष्य हमारे अनुमान से अधिक सफलता से पूरे हो रहे हैं। लैंडर के साथ भेजे गए 'द रोटेशन एंड इंटीरियर स्ट्रक्चर एक्सपेरिमेंट' ने इनसाइट के रेडियो कनेक्शन का इस्तेमाल कर मंगल की सतह से जुड़ी प्राथमिक जानकारियां पृथ्वी पर भेजना भी शुरू कर दिया है।

वैज्ञानिकों ने अनुसार, भूकंप मापी यंत्र का सतह पर स्थापित होना इनसाइट की लैंडिंग के बराबर की सफलता है। यह लैंडर का सबसे प्रमुख यंत्र है, जिससे मिशन के तीन-चौथाई लक्ष्य पूरे होंगे। यह उपकरण मंगल की सतह को खोद कर भूकंप की जानकारियां इकट्ठी करेगा।

उसके अध्ययन से मंगल ग्रह की सतह की गहराई का पता चलेगा। फिलहाल यह यंत्र करीब दो से तीन डिग्री झुकी जमीन पर मौजूद है। इसकी स्थिति सही करने के बाद उपकरण से मिली जानकारियां पृथ्वी पर पहुंचने लगेंगी।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस