वाशिंगटन (एजेंसी)। अमेरिका के साथ निरस्त्रीकरण का वादा करने के बावजूद उत्तर कोरिया परमाणु हथियार का लगातार निर्माण करने में लगा हुआ है। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने बुधवार को ये बातें कहीं। सीनेट फॉरेन रिलेशन कमिटी में पूछे गए सवाल के जवाब में पोंपियो ने प्रतिक्रिया दी।

हालांकि पोंपियों ने इस बात का जवाब देने से इनकार कर दिया कि क्या उत्तर कोरिया अभी भी सबमरीन बैलिस्टिक मिसाइल लांच कर रहा है या नहीं। दूसरी तरफ पोंपियो ने अमेरिकी राष्ट्रपति और किम जोंग उन के बीच शिखर सम्मेलन में हुए समझौते का बचाव भी किया। उन्होंने कहा कि अमेरिका, उत्तर कोरिया को कूटनीतिक तरीकों से लगातार समझा रहा है।

5-7 जुलाई के बीच उत्तर कोरिया का दौरा करके लौटे पोंपियो ने कहा कि उन्होंने कोरियाई समकक्ष किम जोंग चोल से इस मुद्दे पर विस्तार से बात की है। बता दें कि इसके पहले ट्रंप ने किम के साथ हुई शिखर वार्ता को सफल बताया था लेकिन ये सवाल आज भी खड़ा है कि क्या उत्तर कोरिया वास्तव में निरस्त्रीकरण प्रक्रिया को आगे बढ़ाने में गंभीर है या नहीं।

शिखर सम्मेलन के दौरान किम ने ट्रंप के साथ वादा किया था कि वे निरस्त्रीकरण प्रक्रिया को जल्दा से जल्द आगे बढ़ायेंगे लेकिन प्योंगयांग ने इस पर विस्तार से कुछ नहीं बताया था कि वे कब और कैसे इस प्रक्रिया की शुरुआत करेंगे। पोंपियो ने आगे कहा कि हमने अधिक वादों को पूरा करने के लिए आपस में एक अस्पष्ट समझौता किया था। उत्तर कोरिया की तरफ से किया अब तक का सबसे झूठा वादा था।

सीनेट में रिपब्लिकन चेयरमैन ऑफ द कमेटी बॉब कॉर्कर ने ट्रंप की आलोचना की जिसमें ट्रंप ने कहा था कि किम बहुत ही प्रतिभाशाली हैं औऱ वे समझदार भी हैं। इस पर कॉर्कर ने ट्रंप पर तंज कसते हुए कहा था कि क्या सच में?

गौरतलब है कि, पिछले सप्ताह ट्रंप ने ये भी कहा था कि उत्तर कोरिया के पास निरस्त्रीकरण के लिए कोई समय सीमा नहीं है और कोई जल्दबाजी नहीं हैं। वे आराम से इस पर काम कर सकते हैं। लेकिन इसी पर पोंपियो ने अलग बयान देते हुए कहा कि अमेरिका इस मामले में काफी मुश्किल से धैर्य बनाए हुए है।

Posted By: Srishti Verma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस