वाशिंगटन, एएनआइ। भारत से कपास और चीनी के आयात प्रस्ताव को पाकिस्तान द्वारा नकारे जाने पर अमेरिका के विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने किसी तरह के बयान से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा, 'मैं विशेष रूप से इस पर किसी तरह की प्रतिक्रिया नहीं देना चाहूंगा। मैं ये कहना चाहता हूं कि हम भारत और पाकिस्तान के बीच सीधी वार्ता को समर्थन देना जारी रखेंगे।  बता दें कि पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कुछ दिनों पहले कहा था कि नई दिल्ली के साथ इस्लामाबाद के रिश्ते तब तक सामान्य नहीं हो सकते हैं जब तक जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा वापस नहीं हो जाता है।

अमेरिका ने कहा कि वह भारत और पाकिस्तान को तमाम मसलों पर सीधी बातचीत के लिए प्रोत्साहित करेगा। हालांकि गृह मंत्रालय ने इमरान सरकार द्वारा भारत से चीनी और कपास का आयात नहीं करने के फैसले पर कुछ भी बोलने से इन्कार कर दिया। अपनी नियमित प्रेस ब्रीफिंग के दौरान गृह मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा, 'मैं उस पर विशेष रूप से कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता हूं।' 

आयात को लेकर पाकिस्तान का यू-टर्न

हाल में ही प्रधानमंत्री इमरान खान की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट मीटिंग में सरकार पैनल के आयात को लेकर फैसले को पलटने पर मुहर लगी थी। इससे पहले पाकिस्तान की इकॉनमिक कॉर्डिनेशन कमिटी ने भारत से चीनी और कपास के आयात को मंजूरी दी थी। बता दें कि वहां इन उत्पादों की महंगाई बढ़ गई है। ऐसे में महंगाई से निपटने के लिए भारत से आयात फिर शुरू करने का फैसला लिया गया था जिसे इमरान खान सरकार ने पलट दिया।

जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने पर पाक को एतराज

उल्लेखनीय है कि 2019 के अगस्त में भारत की ओर से जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पाकिस्तान ने भारत के साथ कारोबारी संबंधों पर रोक लगा दी थी। लेकिन अब पाकिस्तान के नए वित्त मंत्री हम्माद अजहर ने भारत के साथ कारोबार एक बार फिर शुरू करने के संकेत दिए थे और भारत से कपास और चीनी के आयात की बात कही थी।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021