न्यूयॉर्क, आइएएनएस। जलवायु परिवर्तन के कारण समुद्र का जल स्तर लगातार बढ़ रहा है। पूरी दुनिया इसके खतरों को लेकर आशंकित है। अब हाल ही में हुए एक अध्ययन में शोधकर्ताओं ने ग्रीनलैंड में बर्फ की बदलती स्थिति पर चिंता जताई है। इसमें बताया गया है कि बीती गर्मी के मौसम में ग्रीनलैंड से 600 बिलियन यानी 60 हजार टन बर्फ पिघलकर कर समुद्र में समा गई है। हैरानी की बात यह है कि केवल दो महीने में ही इस बर्फ के कारण समुद्र का जलस्तर 2.2 मिलीमीटर पर बढ़ गया है।

यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया की वैज्ञानिक और इस अध्ययन की प्रमुख लेखक इसाबेल वेलिकोग्ना ने कहा, 'हम जानते हैं कि पिछले साल अन्य वर्षो के मुकाबले काफी गर्मी थी, जिसका सबसे ज्यादा असर ग्रीनलैंड की बर्फ की चादरों और पड़ा और वे पिघल गई।' उन्होंने कहा कि ग्रीनलैंड में साल 2002 से साल 2018 के बीच हर साल औसत जितनी बर्फ पिघली है, उससे कहीं ज्यादा बर्फ केवल पिछले वर्ष पिघली है।

पिघल चुकी है 4550 बिलियन टन बर्फ

इसाबेल ने बताया कि साल 2002 से लेकर 2019 तक ग्रीनलैंड में 4550 बिलियन टन बर्फ पिघल चुकी है। यदि इसका औसत देखा जाए तो हर वर्ष लगभग 268 बिलियन टन बर्फ पिघली। इसके खतरे का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एक साल में अमेरिका के लॉस एंजेलिस में जितने पानी की उपयोग होता है, उससे कई गुना ज्यादा बर्फ ग्रीनलैंड में पिघल कर समुद्र में समा गई है। इससे ना केवल ग्रीनलैंड बल्कि पूरी दुनिया के लिए ही खतरा बढ़ता जा रहा है। एक अनुमान के मुताबिक, इसका सबसे ज्यादा असर हमारे पारिस्थितिकी तंत्र पर पड़ेगा।

अंटार्कटिका में भी बड़े पैमाने पर हुआ नुकसान

जियोफिजिकल रिसर्च नामक जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि वर्ष 2019 में ही ग्रीनलैंड के विपरीत दक्षिणी ध्रुव में स्थित अंटार्कटिका के अमुंडसेन सागर और अंटार्कटिक प्रायद्वीप में भी बड़े पैमाने पर बर्फ पिघली, लेकिन महाद्वीप के पूर्वी हिस्से, क्वीन माउड लैंड में बर्फबारी के बढ़ने से यहां कुछ राहत जरूर देखी गई।

'ग्रेस-एफओ' के डाटा का किया उपयोग

इसाबेल ने कहा कि इस अध्ययन के लिए उन्होंने अमेरिका और जर्मनी के संयुक्त अंतरिक्ष अभियान 'ग्रेस-एफओ' के डाटा का उपयोग किया। उन्होंने कहा कि डाटा का विश्लेषण करने पर यह बात सामने आई कि अंटार्कटिका के पश्चिम में बड़े पैमाने पर बर्फ को नुकसान पहुंच था, जो समुद्र के स्तर में वृद्धि के लिए बहुत बुरी खबर है, लेकिन, पूर्वी क्षेत्र कुछ राहत भी देता है। ग्रेस एफओ यानी ग्रेस फॉलो-ऑन के जरिये जल भंडारों की निगरानी की जाती है। इस मिशन के तहत पहला यान 2002 में तैनात किया गया था और अगले 15 वर्षो तक इससे प्राप्त डाटा का विश्लेषण किया।

समुद्र में समा जाएंगे छोटे द्वीप

इसाबेल ने कहा, अंटार्कटिका में भी बर्फ पिघल रही है लेकिन उत्तरी ध्रुव में स्थिति ज्यादा चिंताजनक है। अगर ग्रीनलैंड और अंटार्कटिका में इसी रफ्तार से बर्फ पिघलती रही तो दुनिया पर खतरा लगातार बढ़ता जाएगा। इससे धरती के समुद्र पर डूबने की संभावना और बढ़ जाएगी। कई छोटे द्वीप तो पूरी तरह समुद्र में ही समा जाएंगे।

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस