वाशिंगटन, पीटीआइ। अमेरिकी सांसदों ने विदेशी नर्सो और डॉक्टरों को चालीस हजार अप्रयुक्त ग्रीन कार्ड जारी करने के लिए शुक्रवार को संसद में एक बिल पेश किया। स्वास्थ्य क्षेत्र की जरूरतों को पूरा करने के लिए लाया गया यह विधेयक अगर कानून की शक्ल लेता है तो इससे बड़ी संख्या में उन भारतीय नर्सो और डॉक्टरों को फायदा होगा, जिनके पास एच-1बी या जे2 वीजा है। बता दें कि कोरोना महामारी से अमेरिका पूरी दुनिया में सर्वाधिक प्रभावित है। इसके लिए उसे बड़ी संख्या में स्वास्थ्यकर्मियों की जरूरत है।

स्थायी रूप से कर सकेंगे काम

जानकारों के अनुसार, 'द हेल्थकेयर वर्कफोर्स रेसिलिएंस एक्ट' के तहत उन ग्रीन कार्ड को जारी किया जा सकेगा, जिन्हें पिछले वर्षों में संसद ने मंजूरी तो दी थी, लेकिन उन्हें किसी को दिया नहीं गया था। इस विधेयक से हजारों अतिरिक्त चिकित्सा पेशेवर अमेरिका में स्थायी रूप से काम कर सकेंगे। बताया जाता है कि इस विधेयक से कोविड-19 वैश्विक महामारी के दौरान 25,000 नर्सो और 15,000 डॉक्टरों को ग्रीन कार्ड जारी किए जाएंगे तथा यह सुनिश्चित किया जाएगा कि चिकित्सा पेशेवरों की कमी न हो।

ग्रामीण इलाकों में हालात नाजुक

प्रतिनिधि सभा में इस विधेयक को सांसद एबी फिनकेनॉर, ब्रैंड श्नीडर, टॉम कोले और डॉन बैकन ने पेश किया। सीनेट में डेविड परड्यू, डिक डबिन, टॉड यंग और क्रिस कूंस ने इस विधेयक को पेश किया। सांसद फिनकेनॉर ने कहा,'हम जानते हैं कि यह वायरस जादुई ढंग से गायब नहीं होगा। डॉ. एंथनी फॉसी जैसे विशेषज्ञ संक्रमण के दूसरे दौर की चेतावनी दे रहे हैं। खासतौर से ग्रामीण इलाकों में हालात नाजुक हैं और वहां पहले से ही चिकित्सा पेशेवरों की कमी है। अमेरिकन मेडिकल एसोसिएशन, द हेल्थकेयर लीडरशिप काउंसिल, यूएस चैंबर ऑफ कॉमर्स, अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ इंटरनेशनल हेल्थकेयर रिक्रूटमेंट, द अमेरिकन हॉस्पिटल एसोसिएशन, अमेरिकन ऑर्गनाइजेशन फॉर नर्सिंग लीडरशिप जैसे संगठनों ने इस विधेयक का समर्थन किया है।

हर साल जारी होते हैं 85 हजार एच-1बी वीजा

अमेरिकी नागरिकता एवं आव्रजन सेवाओं (यूएससीआइएस) द्वारा प्रत्येक वर्ष अधिकतम 65,000 कुशल विदेशी कामगारों को एच-1बी वीजा जारी किया जाता है। इसके अलावा वह अमेरिकी शैक्षिक संस्थान से स्नातकोत्तर या उच्च डिग्री प्राप्त अत्यधिक कुशल विदेशी कामगारों के लिए अतिरिक्त 20,000 एच-1बी वीजा भी जारी कर सकता है। एच-1बी वीजा एक गैर अप्रवासी वीजा होता है, जो अमेरिकी कंपनियों को विदेशी कामगारों को तकनीकी विशेषज्ञता जैसे विशेष व्यवसायों के लिए काम पर रखने की अनुमति देता है। इस तरह की कंपनियां प्रत्येक वर्ष भारत और चीन के हजारों युवकों की नियुक्त करती हैं।

जारी होते हैं एक लाख चालीस हजार ग्रीन कार्ड

मौजूदा कानून के तहत अमेरिका प्रत्येक साल अधिकतम 1,40,000 रोजगार-आधारित ग्रीन कार्ड जारी कर सकता है। इसमें एक देश को सात फीसद से अधिक ग्रीन कार्ड जारी नहीं किए जा सकते हैं। ग्रीन कार्ड को आधिकारिक रूप से स्थायी निवास कार्ड के रूप में जाना जाता है। यह अमेरिका में अप्रवासियों को जारी किया जाने वाला एक दस्तावेज है, जो इस बात की गारंटी देता है कि संबंधित व्यक्ति को अमेरिका में स्थायी रूप से निवास करने का विशेषाधिकार प्राप्त है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस