न्यूयार्क। अमेरिका में लोग अब उनके यहां हो रही मौतों के लिए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को जिम्मेदार मान रहे हैं। लोगों का कहना है कि एक राष्ट्रपति होने के नाते ये वो समय रहते जरूरी कदम उठा लेते और देश में लॉकडाउन कर देते तो मरने वालों की संख्या इतनी नहीं होती। देश में हो रही इन सभी मौतों के लिए वो ट्रंप को ही पूरी तरह से जिम्मेदार मान रहे हैं।

दुनियाभर में कोरोना से मरने वालों की एक-तिहाई संख्या अकेले अमेरिका से ही है। अब न्यूयार्क में टाइम्स स्क्वायर पर फिल्ममेकर यूजीन जरेकी की ओर से डिजाइन की गई एक घड़ी लगा दी गई है। इस घड़ी को ट्रंप डेथ क्लॉक (Trump Death Clock) नाम दिया गया है। इस घड़ी में न्यूयार्क में कोरोना वायरस के संक्रमण से हो रही मौतों का आंकड़ा दिखता रहता है।

क्या दिख रहा ट्रंप डेथ क्लॉक में 

न्यूयॉर्क के टाइम्स स्क्वायर पर लगाए गए इस 'ट्रंप डेथ क्लॉक' में अमेरिका में कोरोना वायरस (Coronavirus Death in US) से मरने वालों का आंकड़ा दिखता रहता है। इस क्लॉक में हर मौत दर्ज होती रहती है और इसी तरह से इसके नंबर भी बढ़ते रहते हैं। अब तक अमेरिका में कोरोना वायरस के संक्रमण से मरने वालों की संख्या 83 हजार को पार कर चुकी है। इस घड़ी में अकेले न्यूयार्क में मरने वालों की संख्या दिखाई जा रही है। 

किसने लगाया ट्रंप डेथ क्लॉक 

इस क्लॉक को फिल्म निर्माता यूजीन जरेकी द्वारा बनाया गया है। उन्होंने ही इस "घड़ी" को टाइम्स स्क्वायर बिल्डिंग की छत पर स्थापित करवाया है। 56 फुट के इस बिलबोर्ड का शुक्रवार को अनावरण किया गया था, उसके बाद से ही यहां मरने वालों की संख्या दिखाई दे रही है। न्यूयॉर्क के फिल्म निर्माता यूजीन को दो बार सनडांस फिल्म फेस्टिवल अवॉर्ड से सम्मानित किया जा चुका है। क्लॉक लगाने के बाद जरेकी ने एक पोस्ट भी जारी की, इस पोस्ट में जरेकी ने लिखा है कि यदि ट्रंप इस वायरस की गंभीरता को समझते और लॉकडाउन या अन्य किसी तरह से इस पर रोक लगाने के लिए काम करते तो इतनी मौतें नहीं होती।

बढ़ती जा रही मौतों और संक्रमित होने वालों की संख्या 

इस घड़ी के अनुसार, न्यूयार्क में रोजाना मौतों का आंकड़ा बढ़ रहा है। 14 लाख से ज्यादा इससे संक्रमित हैं। मंगलवार तक ये 48000 से ज्यादा हो चुका था। इसमें बहुत से ऐसे लोग थे, जिनको बचाया जा सकता था मगर संक्रमण के डर की वजह से उनको प्रॉपर तरीके से इलाज भी नहीं मिल पा रहा है। इसके बावजूद राष्ट्रपति ट्रंप अमेरिका से लॉकडाउन हटाने पर जोर दे रहे हैं। डोनाल्ड ट्रंप इकोनॉमी ग्रोथ के लिए लॉकडाउन खोलने पर आमादा हैं। डोनाल्ड ट्रंप का कहना है कि चीजों को खोल दिया जाए और लोग काम पर वापस लौटें।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में ही भड़क गए ट्रंप 

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सोमवार को व्हाइट हाउस में हो रही कोरोना वायरस पर प्रेस कॉन्फ्रेंस में अचानक भड़क गए। दरअसल, एक चीनी पत्रकार ने उनसे सवाल पूछा कि वह इस बात पर अधिक जोर क्यों देते हैं कि अमेरिका बाकी देशों से ज्यादा टेस्टिंग कर रहा है। इस पर ट्रंप ने कहा कि दुनिया में हर जगह लोगों की जान जा रही है। यह सवाल आपको चीन से करनी चाहिए, मुझसे नहीं।

कोरोना संक्रमित होकर वापस काम पर लौट रहे लोग 

इस बीच ऐसी रिपोर्ट्स आई हैं कि जो हजारों लोग काम पर लौटे हैं, वे कोरोना से ग्रस्त हो गए हैं। हाल के आंकड़ों में पता चला है कि मीट पैकिंग और मुर्गी पालन से जुड़ा कार्य जहां होता है, वहां कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ गया है। अमेरिका के टेक्सास प्रांत के ऑस्टिन में कंस्ट्रक्शन वर्कर्स में कोरोना के मामले पाए गए हैं। ये लोग हाल ही में काम पर लौटे थे।  

Posted By: Vinay Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस