वाशिंगटन, प्रेट्र। अमेरिका की पहली भारतवंशी सीनेटर कमला हैरिस ने अपने चुनाव अभियान के लिए बीते छह माह में 2.3 करोड़ डॉलर (करीब 158 करोड़ रुपये) का चंदा जुटाया है। इसके चलते डेमोक्रेटिक पार्टी से राष्ट्रपति उम्मीदवार बनने की उनकी दावेदारी मजबूत हुई है। वर्ष 2020 के चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी की तरफ से राष्ट्रपति प्रत्याशी बनने की होड़ में हैरिस समेत 20 से ज्यादा नेता और सांसद शामिल हैं।

पिछले महीने हुई पहली प्राइमरी बहस में हैरिस के बेहतरीन प्रदर्शन के बाद उनके और पूर्व राष्ट्रपति जो बिडेन के बीच ही कांटे की टक्कर होने के कयास लगाए जा रहे हैं। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मुखर आलोचक हैरिस यदि प्रत्याशी बनने के साथ ही राष्ट्रपति चुनाव जीतती हैं तो वह अमेरिकी की पहली महिला और पहली अश्वेत महिला राष्ट्रपति होंगी।

हैरिस के चुनाव अभियान के प्रबंधक जुआन रोड्रिगेज के अनुसार, साल की दूसरी तिमाही में उन्होंने दो लाख 79 हजार लोगों से 1.2 करोड़ डॉलर (करीब 82 करोड़ रुपये) इकट्ठा किए। इस दौरान करीब डेढ़ लाख नए दानकर्ताओं ने उन्हें समर्थन दिया। भारतवंशी मां और जमैकाई पिता की संतान हैरिस ने अपने डिजिटल प्रोग्राम से ही 70 लाख डॉलर (करीब 48 करोड़ रुपये) जुटाए।

रोड्रिगेज ने कहा, 'उन्हें लोगों का अपार समर्थन मिल रहा है। जनता के ही समर्थन से वह राष्ट्रपति प्रत्याशी बनने की रेस जीत पाएंगी।' हैरिस 14 जुलाई से न्यू हैंपशायर में अपने अभियान की शुरुआत करने जा रही हैं। इस बीच उन्होंने अल्पसंख्यक समुदाय को घर दिलाने में मदद के लिए 100 अरब डॉलर (करीब 6 लाख 86 हजार करोड़ रुपये) की योजना लाने का भी वादा किया है।

नागरिकता को लेकर उठ रहे सवाल
हैरिस की नागरिकता को लेकर सवाल उठ रहे हैं। अमेरिका के पहले अश्वेत राष्ट्रपति बराक ओबामा को भी ऐसे सवालों का सामना करना पड़ा था। हैरिस ने कहा, 'जब आप कोई बदलाव लाना चाहते हैं तो आपको थोड़ी तकलीफ सहनी ही पड़ती है।'

Posted By: Dhyanendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस