वाशिंगटन, एजेंसियां। ट्रंप समर्थकों की ओर से हिंसा की आशंकाओं के बीच नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन और नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति कमला हैरिस बुधवार को शपथ लेंगे। किसी भी अप्रिय स्थिति से बचने के लिए पूरे वाशिंगटन डीसी को किले में तब्दील कर दिया गया है। अमेरिकी संसद की ओर जाने वाली सड़कों पर हजारों की तादाद में सुरक्षाकर्मी गश्त लगा रहे हैं। चेहरों को ढके हथियारबंद सुरक्षाकर्मी गाड़ियों की जांच कर रहे हैं और ट्रैफिक को भी रास्ता दिखा रहे हैं।

अमेरिकी संसद भवन के इर्द गिर्द के इलाके, पेंसिलवेनिया एवेन्यू, और व्हाइट हाउस के आसपास का बड़ा हिस्सा आम जनता के लिए बंद कर दिया गया है तथा इन स्थानों पर आठ फुट ऊंचे अवरोधक लगाए गए हैं। पूरा शहर हाई अलर्ट पर है।

शपथ समारोह में आम लोग नहीं बन सकेंगे गवाह

यूनाइटेड स्टेट मार्शल सर्विस ने वाशिंगटन डीसी में चार हजार अधिकारियों को तैनात करने का फैसला किया है। वहीं मेजेस्टिक नेशनल मॉल जहां पर शपथ ग्रहण समारोह के दौरान हजारों लोग मौजूद रहते हैं, उसे बंद कर दिया गया है। जिसके चलते आम लोग सत्ता हस्तांतरण के गवाह नहीं बन सकेंगे। पूर्व के शपथ ग्रहण समारोह को एक बड़ी स्क्रीन पर देखने के लिए नेशनल मॉल में लगभग एक लाख लोग एकत्र होते थे।

अभी तक नहीं मिला अंदरूनी खतरे का संकेत

कार्यवाहक रक्षा मंत्री क्रिस्टोफर मिलर ने बताया कि शपथ ग्रहण समारोह जैसे आयोजनों में 25 हजार से अधिक नेशनल गार्ड की तैनाती एक सामान्य बात है। हमें अभी तक किसी भी अंदरूनी खतरे का संकेत नहीं मिला है। हम अमेरिकी संसद की सुरक्षा में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

बुधवार को होने वाले कार्यक्रम की खास जानकारी देते हुए वाशिंगटन डीसी के मेयर मुरियल बाउजर ने कहा कि हम भी नहीं चाहते हैं कि शहर में सैनिक और अवरोधक दिखाई दें, लेकिन कानून प्रवर्तन एजेंसियों के पास सुरक्षा बढ़ाने के अलावा कोई विकल्प नहीं था।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021