वाशिंगटन, एजेंसियां। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने एक दुर्लभ कदम उठाते हुए अपने पूर्ववर्ती ट्रंप प्रशासन की नीति अपनाई है। ताकि अरब देशों को गाजा पट्टी में कूटनीतिक प्रयासों के तहत विकास कार्यों के लिए अब्राहम संधि को अंजाम दिया जा सके। बाइडन प्रशासन इजरायल के साथ इस संधि पर और अरब देशों के भी हस्ताक्षर लेने के लिए प्रयासरत होगा। इस अब्राहिम संधि को ट्रंप प्रशासन ने शुरू किया था। इसके जरिये पिछले साल चार अरब देशों ने एक के बाद एक संधि पर दस्तखत किए थे।

इस संधि के तहत अमेरिकी प्रशासन 1948 में स्थापित इजरायल के प्रति मध्य-पूर्व में यहूदी आबादी के लिए शत्रुता कम करने और उन्हें अलग-थलग पड़ने से बचाने के लिए किया जा रहा है। अब बाइडन प्रशासन ने इजरायल के साथ अरब देशों की सरकारों के रिश्ते सामान्य करने के लिए यह कदम उठाया है।

हालांकि अमेरिकी अधिकारियों ने उन अरब देशों के नाम खुलेआम बताने से इन्कार कर दिया है, जिनके साथ इजरायल की संधि की अच्छी संभावनाएं हैं। शांति की आम घोषणा करने वाले सूडान और दखल न देने की नीति का पालन करने वाले ओमान ने अभी तक इजरायल के साथ संधि पर दस्तखत नहीं किए हैं। लेकिन यह मध्य-पूर्व के देशों के बीच पुल बनने का काम कर सकते हैं।

पश्चिमी तट पर गोलीबारी में दो फलस्तीनी अफसर मरे

रामल्ला, एपी : फलस्तीन के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि इजरायल सैन्य बलों ने इजरायली हिस्से वाले पश्चिमी तट के जेनिन कस्बे में गोलीबारी करके दो फलस्तीनी सुरक्षा बलों को मार गिराया। आनलाइन वीडियो में अंडर कवर इजरायली अफसरों को एक कार के पीछे छिपे फलस्तीनी अफसरों पर गोली चलाते देखा जा सकता है। मारे गए अफसरों की पहचान फलस्तीनी प्रशासन के सैन्य खुफिया बल के रूप में हुई है।

इजरायल ने सीरिया में 11 सैन्य अफसरों को मार गिराया

दमिश्क, आइएएनएस : इजरायल ने सीरिया के मध्य और दक्षिणी क्षेत्र में हमला करके रात भर में ही 11 लोगों को मार गिराया है। दमिश्क में हमले में मारे गए लोगों का ब्योरा दिया गया है। इजरायली रक्षा बल ने वर्ष 2011 में सीरिया में गृहयुद्ध शुरू होने के बाद से अब तक ऐसे ही सैंकड़ों हमले किए हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप