वाशिंगटन डी.सी., एएनआइ।  रूस से S-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली की खरीद पर विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा है कि भारत ने   एस-400 मिसाइल प्रणाली की खरीद पर अपना फैसला किया है और इसको लेकर अमेरिका से चर्चा की है। विदेश मंत्री जयशंकर ने मंगलवार को खरीद पर अमेरिकी प्रतिबंधों के खतरे के बीच यह बात कही।

वाशिंगटन में अपने तीन दिवसीय एजेंडे के भाग के रूप में, जयशंकर ने सेंटर फॉर स्ट्रैटेजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज थिंक टैंक में आयोजित एक बातचीत में भाग लिया। इधर, मंत्री पर चुटकी ली गई कि क्या भारत भूमि आधारित मिसाइल प्रणाली की खरीद पर अमेरिकी कार्रवाइयों के परिणामों को स्वीकार करने के लिए तैयार है। जिस पर जयशंकर ने जवाब दिया, भारत ने S400 मुद्दे पर निर्णय लिया है और अमेरिकी सरकार के साथ हमने चर्चा की।

विदेश मंत्री ने कहा, 'हम अपनी शक्ति के बारे में बहुत आश्वस्त हूं। यह मेरी आशा होगी कि लोग यह समझें कि यह विशेष लेनदेन हमारे लिए क्यों महत्वपूर्ण है।'

सीएएटीएसए (काउंटरिंग अमेरिकाज एडवरसरीज थ्रू सैंक्शन्स एक्ट) के तहत, अमेरिका ने रूस से हथियारों की खरीद के खिलाफ प्रतिबंध लगाए हैं, जिसमें यूक्रेन और सीरिया में मास्को की भागीदारी का आरोप लगाया गया है। हालांकि, भारत ने पिछले साल 5 अक्टूबर को नई दिल्ली में 19 वें भारत-रूस वार्षिक द्विपक्षीय शिखर सम्मेलन के दौरान रूस के साथ पाँच एस -400 की खरीद के लिए 5.43 बिलियन डॉलर का सौदा किया था, जिस पर वाशिंगटन ने संकेत दिया है कि रूसी एस -400 सिस्टम काउंटरिंग अमेरिका के एडवाइजर्स थ्रू सेन्चुएशन एक्ट (CAATSA) प्रतिबंधों को ट्रिगर कर सकते हैं।

जीतेगा भारत हारेगा कोरोन

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस