लास एंजिलिस, प्रेट्र। वैज्ञानिकों ने बताया है कि भविष्य में स्मार्ट स्पीकर ऑपरेशन के दौरान मददगार साबित होंगे। उन्होंने बताया कि स्मार्ट स्पीकर जैसे कि अमेजन इको और गूगल होम, जो कि हमारे लिविंग रूम को जीवंत बनाने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। उन्हें प्रोग्रामर के तौर पर अस्पताल के आपरेटिंग रूम में चिकित्सकों की सहायता के लिए रखा जा सकता है।

इसके माध्यम से फिजीशियन को इंटरवेशनल रेडियोलॉजी (आइआर) के दौरान कम्यूनिकेशन करने में मदद मिलती है। फिजिशियन किसी समस्या के होने पर इन स्मार्ट स्पीकरों के माध्यम से जानकारी हासिल कर सकते हैं। इससे फिजिशियन का काम आसान हो जाएगा और उन्हें जीवाणुरहित दायरा तोड़ने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी।

अमेरिका की यूनिवर्सिटी आफ कैलिफोर्निया, सैनफ्रांसिस्को (यूएनएसएफ) के शोधकर्ता केविन सील्स ने बताया कि उपचार के दौरान आइआर बहुत सूक्ष्म सूचनाओं पर आधारित होता है। जब आप उपचार की प्रक्रिया के मध्य में होते हैं तो आपको वह जगह जीवाणुरहित रखनी होती है, इसलिए आप कंप्यूटर जैसी किसी बाहरी चीज की मदद नहीं ले सकते। इसलिए ऑपरेटिंग रूम में लगे इन स्मार्ट स्पीकरों से फिजिशियन को मदद मिल सकती है जिससे तुंरत निर्णय लेने में मदद मिलेगी।

यूएनएसएफ के वैज्ञानिकों ने गूगल होम स्मार्ट स्पीकर के लिए एक एप्लिकेशन विकसित किया है। यह एप्लिकेशन चिकित्सा में प्रयोग होने वाले औजारों के आकार के बारे में बताता है। एप से प्रश्न पूछने पर यह सटीक उत्तर देता है। उदाहरण के तौर पर अगर एक आइआर में मरीज के रक्त वाहिका में स्टंट डालने के लिए उपयोग में आने शेथ (एक यंत्र) का आकार कितना होना चाहिए। स्मार्ट स्पीकर के माध्यम से इसका तुरंत पता लगाया जा सकता है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस