मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

वाशिंगटन, प्रेट्र। हम सभी संगीत को सुनते और उससे आनंदित होते हैं। कभी-कभी हमे कोई गाना इतना अधिक पसंद आता है कि हम उसे याद करके गुनगुनाते हैं, लेकिन क्या आपको पता है कि संगीत को सुनना और उसे याद करना मस्तिष्क के दो अलग-अलग क्षेत्रों द्वारा किया जाता है। एक अध्ययन के अनुसार वैज्ञानिकों ने यह जानकारी दी है।

हालांकि, इसके पहले के शोध में यह कहा जाता रहा है कि संगीत के दौरान मस्तिष्क के दाएं ओर का क्षेत्र मुख्य रूप से सक्रिय होता है।

ऐसे हुआ शोध
अभी भी बहुत कम शोधकर्ता इस बारे में जानते हैं कि किस तरह से संगीत सुनने के दौरान मस्तिष्क के क्षेत्रों में बदलाव होता है। अमेरिका की जॉन होपकिंस यूनिवर्सिटी और चीन की शिन्हुआ यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने महिला, पुरुष दोनों के दिमाग की विद्युत गतिविधि का अध्ययन तब किया। इस दौरान प्रतिभागियों को उन्होंने प्रशिद्ध संगीतकार बीथोवेन के 'फॉर एलिस' और रिचर्ड वैगनर की 'वेडिंग मार्च' जैसी लोकप्रिय संगीत रचनाएं सुनाईं।

इस अध्ययन को 'जेन्यूरोक्सि' जर्नल में प्रकाशित किया गया है। इसमें बताया गया है कि मस्तिष्क के क्षेत्रों में बदलाव का संबंध संगीत को सुनने और उसे दोबारा गुनगुनाने से है।

ऐसे काम करता है मस्तिष्क
शोधकर्ताओं ने बताया कि संगीत की सूचनाएं उसे सुनने के दौरान मस्तिष्क के जिस क्षेत्र में संचरण करती हैं, उसे गुनगुनाने के दौरान व अपना क्षेत्र विपरीत दिशा में बदल देती हैं। सुनने के दौरान सूचनाएं संवेदी भागों से सामने की ओर संचरण करती हैं और उसे याद कर गुनगुनाने के दौरान सामने से पीछे संवेदी भागों की ओर चलती हैं। अध्ययन से पता चलता है कि मस्तिष्क की गतिविधि की विशेषताओं को समझकर यह पता लगाया जा सकता है कि व्यक्ति किसी संगीत को याद कर रहा है।

शोधकर्ताओं ने हालांकि, यह भी बताया कि मस्तिष्क द्वारा याद करने वाली प्रक्रिया का अध्ययन बेहतर और नियंत्रित प्रतिमानों के तहत करने की आवश्यकता है। क्योंकि वर्तमान पद्धति में यह बताना आसान नहीं है कि कब कोई संगीत को याद करता है और कम उसे समाप्त कर देता है।

कुछ लोग नहीं ले पाते संगीत का मजा
कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिन्हें संगीत में कोई रुचि नहीं होती है। पिछले किए गए एक अध्ययन में शोधकर्ताओं के अनुसार ऐसे लोगों में 'म्यूजिक एनहेडोनिया' नामक बीमारी होती है। ऐसे लोगों के मस्तिष्क में कॉर्टेक्स का आपसी संबंध बिगड़ा होता है।

इसे भी पढ़ें: पत्रकार खशोगी की हत्या को लेकर तुर्की के अखबार ने खोले अहम राज, बताया कैसे ली गई थी जान

इसे भी पढ़ें: भारत से 22 गुना अधिक है अमेरिका में प्रति व्यक्ति पेड़ों की संख्या, खत्म होती जा रही हरियाली

Posted By: Dhyanendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप