ह्यूस्टन, प्रेट। हमले में मारे गए भारतीय-अमेरिकी सिख पुलिस अधिकारी संदीप सिंह धालीवाल के सम्मान में ह्यूस्टन पुलिस विभाग ने अपनी ड्रेस कोड नीति को बदल किया है, ताकि अल्पसंख्यक समुदाय के सदस्यों को ड्यूटी पर रहते हुए उनके विश्वास का प्रतिनिधित्व करने की अनुमति मिल सके।

28 सितंबर को हैरिस काउंटी शेरिफ कार्यालय में 10 सालों से तैनात धालीवाल को ह्यूस्टन के उत्तर-पश्चिम में ट्रैफिक स्टॉप का संचालन करते हुए मार दिया गया था। 42 वर्षीय पुलिस अधिकारी ने उस समय राष्ट्रीय सुर्खियां बटोरीं थी, जब उन्हें अमेरिका में दाढ़ी बढ़ाने और नौकरी करने की अनुमति दी गई थी।

सोमवार को ह्यूस्टन पुलिस ने ट्वीट किया कि ह्यूस्टन पुलिस अब टेक्‍सास में सबसे बड़ी कानून प्रवर्तन एजेंसी है, जो पॉलिसी अपनाने के लिए अधिकारियों को कर्तव्य पर विश्वास करने के लिए अनुमति देती है।

ह्यूस्टन के मेयर सिल्वेस्टर टर्नर ने ट्वीट किया कि एचपीडी (ह्यूस्टन पुलिस विभाग) की घोषणा करते हुए गर्व महसूस हो रहा है कि देश के सबसे बड़े पुलिस विभागों में से एक ह्यूस्टन पुलिस ने सिख अधिकारियों को ड्यूटी पर उनके धर्म से जुड़े चिह्न को पहनने की अनुमति होगी। डिप्टी धालीवाल ने हमें सम्मिलित करने के बारे में सभी को मूल्यवान सबक सिखाया। उसे जानना एक सम्मान की बात थी।

अपराधी ने संदीप को मार दी थी गोली 

एक लड़की को अगवा करने के मामले में पैरोल पर आए सजायाफ्ता अपराधी ने बीते 28 सितंबर को अमेरिका के ह्यूस्टन शहर के हाईवे सिक्स वेस्ट रोड पर संदीप सिंह की गोली मार कर हत्या कर दी गई थी। उनकी शव यात्रा में अमेरिका पुलिस और अन्य प्रशासनिक अधिकारी व वहां रह रहे भारतीय बड़ी संख्या में शामिल हुए।

ह्यूस्टन पुलिस विभाग के प्रमुख आर्ट ऐसवेदो ने ट्वीट किया कि हमारी नीति की घोषणा करने के लिए सिल्वेस्टर टर्नर और हमारे समुदाय के इतने सारे सदस्यों के साथ खड़े होने का गर्व है।  

Posted By: Arun Kumar Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप