नई दिल्ली, आइएएनएस। बुधवार को हैकरों ने दुनिया के कई बड़े लोगों के ट्विटर एकाउंट हैक कर लिए। उसके बाद उनसे क्रिप्टोकरंसी के जरिए दान की मांग की गई। इसके लिए एक लिंक भी भेजा गया। इस दौरान लगभग 367 यूजर्स ने बिटकॉइन्स में हैकरों को एक लाख 20 हजार डॉलर (लगभग 90 लाख रुपये) का ट्रांसफर भी कर दिए। जब तक इस घोटाले को रोकने के लिए ट्विटर की टीमों ने कार्रवाई की तब तक ये पैसे हैकरों के खाते में पहुंच चुके थे।

साइबरसिटी फर्म Kaspersky के अनुसार हम अब उस युग में रह रहे हैं जब बड़े से बड़े लोगों के ऐसे खाते भी हैक हो सकते है। इन लोगों के खाते सबसे अधिक सुरक्षित होते हैं उसके बाद ये हैकर्स का शिकार हो जाते हैं। फर्म का कहना है कि अनुमान भी नहीं लगाया जा सकता है कि इतनी जल्दी इतने लोगों ने हैकरों को पैसे ट्रांसफर भी कर दिए। हैकरों का ठगी करने का ये नायाब तरीका दिखा है।

मालूम हो कि बुधवार को अमेरिका के कई बड़े लोगों के ट्विटर अकाउंट हैक कर लिए गए। हैकरों ने जिनके ट्विटर अकाउंट को हैक किया, उनमें माइक्रोसॉफ्ट के सह संस्थापक बिल गेट्स, टेस्ला के सीईओ इलॉन मस्क, अमेरिकी रैपर कान्ये वेस्ट, अमेरिका के पूर्व उपराष्ट्रपति जो बिडेन, अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा, इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू, वॉरेन बफेट, एप्पल, उबर समेत अन्य लोग शामिल थे। 

ट्विटर एकाउंट हैंडल हैक करने के बाद इस पर एक खास तरह के मैसेज पोस्ट किए गए। पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा का भी ट्विटर एकाउंट हैंडल हैक कर लिया गया। संदेशों से स्पष्ट है कि क्रिप्टोकरंसी स्कैम के उद्देश्य से ऐसा किया गया। ये मैसेज थोड़ी देर बाद डिलीट भी कर दिए गए। हैक करने वाले ने मैसेज में एक लिंक डाला जिस पर बिट कॉइन का लेन देन किया जा सकता है। जानकारी के बाद वेबसाइट के डोमेन को कैंसल कर दिया गया। ऐमजॉन के को-फाउंडर जेफ बेजोस और बिल गेट्स के ट्विटर हैंडल हैक करके भी इसी तरह के पोस्ट किए गए।

एपल के एकाउंट से लिखा गया है कि हम अपने लोगों को कुछ देना चाहते हैं। उम्मीद है कि आप भी सपॉर्ट करेंगे। आप जितने भी बिटकॉइन भेजेंगे, उन्हें डबल करके लौटाया जाएगा। यह केवल 30 मिनट के लिए है। एलन मस्क की प्रोफाइल से लिखा गया है कि कोविड 19 की वजह से मैं लोगों को बिट कॉइन डबल करके दे रहा हूं। यह सब सुरक्षित है।

थोड़ी देर ही में इस तरह के ट्वीट कई कंपनियों के हैंडल से भी होने लगे। एपल, ऊबर और कई और कंपनियों के अकाउंट से भी बिटकॉइन स्कैम की कोशिश की गई। इस घटना के बाद ट्विटर पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। आखिर किस कमी की वजह से इतने बड़े नामों के भी ट्विटर हैंडल हैक हो गए? इसका मतलब ट्विटर में कोई ऐसा लूपहोल है जिसके चलते किसी की भी प्राइवेसी सुरक्षित नहीं है।

इस बारे में ट्विटर की ओर से भी जवाब दिया गया। ट्विटर ने कहा कि हमको ट्वीटर अकाउंट हाईजैक होने की जानकारी है। फिलहाल हम मामले की जांच कर रहे हैं। साथ ही इसको दुरुस्त करने के लिए कदम उठा रहे हैं। हम जल्द ही सबको अपडेट देंगे। ट्विटर ने कहा कि हम इस मामले की समीक्षा कर रहे हैं।  

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021